Siraj Aurangabadi's Photo'

सिराज औरंगाबादी

1712 - 1764 | औरंगाबाद, भारत

सूफ़ी शायर, जिनकी मशहूर ग़ज़ल ' ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ ' बहुत गाई गई है

सूफ़ी शायर, जिनकी मशहूर ग़ज़ल ' ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ ' बहुत गाई गई है

सिराज औरंगाबादी

ग़ज़ल 125

शेर 100

डूब जाता है मिरा जी जो कहूँ क़िस्सा-ए-दर्द

नींद आती है मुझी कूँ मिरे अफ़्साने में

  • शेयर कीजिए

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन जुनूँ रहा परी रही

तो तू रहा तो मैं रहा जो रही सो बे-ख़बरी रही

फ़िदा कर जान अगर जानी यही है

अरे दिल वक़्त-ए-बे-जानी यही है

  • शेयर कीजिए

शह-ए-बे-ख़ुदी ने अता किया मुझे अब लिबास-ए-बरहनगी

ख़िरद की बख़िया-गरी रही जुनूँ की पर्दा-दरी रही

इश्क़ और अक़्ल में हुई है शर्त

जीत और हार का तमाशा है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 10

Gulshan-e-Siraj

 

1904

Intekhab Siraj Aurangabadi

 

1969

इंतिख़ाब-ए-सिराज औरंगाबादी

 

1969

Kulliyat-e-Siraj

 

1938

Kulliyat-e-Siraj

 

1982

Kulliyat-e-Siraj

 

1998

Masnawi Bostan-e-Khayal

 

1969

Siraj Aur Un Ki Shairi

 

 

Siraj Aurangabadi

 

2019

Siraj-e-Sukhan

 

1936

 

चित्र शायरी 2

हर तरफ़ यार का तमाशा है उस के दीदार का तमाशा है इश्क़ और अक़्ल में हुई है शर्त जीत और हार का तमाशा है ख़ल्वत-ए-इंतिज़ार में उस की दर-ओ-दीवार का तमाशा है सीना-ए-दाग़ दाग़ में मेरे सहन-ए-गुलज़ार का तमाशा है है शिकार-ए-कमंद-ए-इश्क़ 'सिराज' इस गले हार का तमाशा है

 

वीडियो 5

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

आबिदा परवीन

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

सिराज औरंगाबादी

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

शौकत अली

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

विविध

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

सिराज औरंगाबादी

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

विविध

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

सिराज औरंगाबादी

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

विविध

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

सिराज औरंगाबादी

ऑडियो 5

कौन कहता है जफ़ा करते हो तुम

ख़बर-ए-तहय्युर-ए-इश्क़ सुन न जुनूँ रहा न परी रही

ख़ाक हूँ ए'तिबार की सौगंद

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द समकालीन
  • वली उज़लत वली उज़लत समकालीन
  • ख़ान आरज़ू सिराजुद्दीन अली ख़ान आरज़ू सिराजुद्दीन अली समकालीन
  • मोहम्मद रफ़ी सौदा मोहम्मद रफ़ी सौदा समकालीन
  • क़ाएम चाँदपुरी क़ाएम चाँदपुरी समकालीन
  • दाऊद औरंगाबादी दाऊद औरंगाबादी समकालीन

"औरंगाबाद" के और शायर

  • मिद्हत-उल-अख़्तर मिद्हत-उल-अख़्तर
  • क़ाज़ी सलीम क़ाज़ी सलीम
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • साबिर साबिर
  • बशर नवाज़ बशर नवाज़
  • क़मर इक़बाल क़मर इक़बाल
  • शाह हुसैन नहरी शाह हुसैन नहरी
  • जे. पी. सईद जे. पी. सईद
  • सिकंदर अली वज्द सिकंदर अली वज्द
  • फ़ारूक़ शमीम फ़ारूक़ शमीम