noImage

अज्ञात

नज़्म 1

 

शेर 542

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ़ तो हुई

लेकिन तमाम उम्र को आराम हो गया

  • शेयर कीजिए

ग़म वो मय-ख़ाना कमी जिस में नहीं

दिल वो पैमाना है भरता ही नहीं

  • शेयर कीजिए

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर

या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा हो

Priest I know this is a mosque, let me drink inside

Or point me to a place where God does not reside

Priest I know this is a mosque, let me drink inside

Or point me to a place where God does not reside

  • शेयर कीजिए

मर्सिया 1

 

क़ितआ 5

 

हास्य 1

 

लतीफ़े 47

बच्चों की कहानी 10

चित्र शायरी 28

कई जवाबों से अच्छी है ख़ामुशी मेरी न जाने कितने सवालों की आबरू रक्खे

रोज़ सोचा है भूल जाऊँ तुझे रोज़ ये बात भूल जाता हूँ

जिन के किरदार से आती हो सदाक़त की महक उन की तदरीस से पत्थर भी पिघल सकते हैं

उस मुल्क की सरहद को कोई छू नहीं सकता जिस मुल्क की सरहद की निगहबान हैं आँखें

जो एक लफ़्ज़ की ख़ुशबू न रख सका महफ़ूज़ मैं उस के हाथ में पूरी किताब क्या देता

मिल के होती थी कभी ईद भी दीवाली भी अब ये हालत है कि डर डर के गले मिलते हैं

देखा हिलाल-ए-ईद तो तुम याद आ गए इस महवियत में ईद हमारी गुज़र गई

सरहदें रोक न पाएँगी कभी रिश्तों को ख़ुश्बूओं पर न कभी कोई भी पहरा निकला

तमाशा देख रहे थे जो डूबने का मिरे मिरी तलाश में निकले हैं कश्तियाँ ले कर

जान लेनी थी साफ़ कह देते क्या ज़रूरत थी मुस्कुराने की

वीडियो 473

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
हास्य वीडियो

अज्ञात

अज्ञात

"Anam" a Nazm By Faraz Ahmad sung By: Sunil Chaudhry

अज्ञात

Aa Kar Ke Meri Kabr Par - Bahadur Shah Zafar

अज्ञात

Aaj phir dil ne kaha aao bhuladen yaaden

अज्ञात

Ab ke uski aankhon mein

अज्ञात

Ab rahiye baith ek jangal mein

अज्ञात

Aisa nahi ke tere baad ahle karam nahi mile

अज्ञात

Aitbar Sajid 16: Tarjuman Nahi Rahe

अज्ञात

Allama Iqbal Urdu & Farsi Nazam

अज्ञात

Amazing Urdu Naat by Ghulam Muhammad Qasir

अज्ञात

An Evening on Asrar ul Haq Majaz Birth Anniversary by Muzzafar Ali's Rumi Foundation(Lucknow Chapter)

अज्ञात

Anwar Masood at a mushaira of Muslim Television Ahmadiyya Studios Pakistan

अज्ञात

Apne hone ka hum ehsaas jagaane aae

अज्ञात

Apne markaz se agar door nikal jao ge

अज्ञात

Baat Kar

अज्ञात

Bedam Shah Warsi's 'Hamari Jaan Ho...' sung by Azalea Ray

अज्ञात

Bhari mehfil mein tanhaaii ka aalam dhoond leta hoon

अज्ञात

Chalo chodo mohabbat jhoot hai

अज्ञात

Dekh Lo Aaj Hum Ko Jee Bhar ke - Hindi Film Bazaar

अज्ञात

Dil Ko Jahan Bhar Ke Muhabbat Mein Gham Mile

अज्ञात

Diwali Nazm

अज्ञात

dushmanon ne to dushmani ki hai

अज्ञात

Ibtedaa-e-Zindagi

अज्ञात

Ilahi koi hawa ka

अज्ञात

In Solidarity with Gaza - Ahmed Faraz Nazm

अज्ञात

In the ceremony of The Poetry Book Barf ki Kashti. Nwaz Bhutta Sings Bashir Ahmad Bashar's Ghazal

अज्ञात

Iraada ho atal to maujzaa aisa bhi hota hai

अज्ञात

Is tapish ka hai mazaa dil hi ko haasil

अज्ञात

Jab meri yaad sataae mujhe khat likhna

अज्ञात

Jab un se mile

अज्ञात

Jism chhooti hai jab aa aa ke pawan baarish mein

अज्ञात

Jo khayaal the na qayaas the

अज्ञात

Kaee saal guzre kaee saal beete

अज्ञात

Kamla Devi singing Fani Badayuni

अज्ञात

Koi kaisa humsafar hai

अज्ञात

Main aisa khoobsoorat rang hoon

अज्ञात

Main jahaan rahoon

अज्ञात

Maine dekha tha un dino mein use

अज्ञात

Mansab to hamein bhi mil sakte the

अज्ञात

Matlabi hain log yahan par, matlabi zamaana

अज्ञात

Mera zameer bahut hai mujhe saza ke liye

अज्ञात

Mere baad kidhar jaaegi tanhaee

अज्ञात

Meri raaton ki raahat din ke itmenaan

अज्ञात

Mile kisi se nazar to samjho ghazal hui

अज्ञात

More Jobna Ka Ubhar Papi Jobna Ka Dekho Zohrabai Ambalewali

अज्ञात

Mughe apne zabt pe naz tha

अज्ञात

Mujhe ab laut jane de

अज्ञात

Mujhe maut di ke hayaat di

अज्ञात

Na ghubaar mein na gulaab mein mujhe dekhna

अज्ञात

Na samaaton mein tapish ghuleNa samaaton mein tapish ghule

अज्ञात

Noon Meem Rashid - Urdu Poetry with Translation

अज्ञात

Phir usi dasht se aa mil le milaale

अज्ञात

Raat bhar ddi-e-namnaak mein lahraate rahe

अज्ञात

Rang mausam ka haraa tha pehle

अज्ञात

Saaye-e-Ahmed-e-Mukhtar Mubarak Bashad - Kalam-e-Bedam Shah Warsi by Ahsan & Adil Hussain Khan

अज्ञात

shakaib jalali: ghazal: dhoop kaheen شکیب جلالی: غزل: دھُوپ کہیں ہے

अज्ञात

shauq-e-beintiha na de jana

अज्ञात

Shikast e zarf ko pindaar e rindana nahin kehte

अज्ञात

Shikwa bhi jafa ka kaise karein

अज्ञात

Shouq Se Nakami Ki Badaulat

अज्ञात

Tera beemaar na sambhlaa

अज्ञात

Tere pyar ki tamanna

अज्ञात

Teri aankhen

अज्ञात

Tujhse milne ka nahin koi imkaan jaana

अज्ञात

Tum naghma e mah o anjum ho

अज्ञात

Tumhain Dekh K Yaad Aata Hai Mujhay..... Kahin Pehlay Bhe Tum Sy Mila Hu Mein

अज्ञात

Vocal Title: Kis Ne Zarron Ko Uthaya کس نے ذروں کو اٹھایا Lyrics: Pandit Harichand Akhtar

अज्ञात

Ye to uska hi karishma hai

अज्ञात

Yeh nigah e sharm jhuki jhuki

अज्ञात

Yun hi si ek baat thi

अज्ञात

अज्ञात

अज्ञात

1919 की एक बात

अज्ञात

Based on Sadat Hassan Manto's short story "Thanda Gosht"

अज्ञात

Buu

अज्ञात

jab teri samundar aankhon mein

ये धूप किनारा शाम ढले अज्ञात

KHatm hui barish-e-sang

ना-गहाँ आज मिरे तार-ए-नज़र से कट कर अज्ञात

Khol do

अज्ञात

Khol Do (Photo Story)

अज्ञात

KHuda wo waqt na lae

ख़ुदा वो वक़्त न लाए कि सोगवार हो तू अज्ञात

kya karen

मिरी तिरी निगाह में अज्ञात

lauh-o-qalam

हम परवरिश-ए-लौह-ओ-क़लम करते रहेंगे अज्ञात

main tere sapne dekhun

बरखा बरसे छत पर मैं तेरे सपने देखूँ अज्ञात

mere dard ko jo zaban mile

मिरा दर्द नग़मा-ए-बे-सदा अज्ञात

mere hamdam mere dost

गर मुझे इस का यक़ीं हो मिरे हमदम मिरे दोस्त अज्ञात

mere hi lahu par guzar auqat karo ho

अज्ञात

Piran

अज्ञात

shishon ka masiha koi nahin

मोती हो कि शीशा जाम कि दुर अज्ञात

tin aawazen - Part 1

ज़ालिम अज्ञात

tin aawazen - Part 2

ज़ालिम अज्ञात

tin aawazen - Part 3

ज़ालिम अज्ञात

tum apni karni kar guzro

अब क्यूँ उस दिन का ज़िक्र करो अज्ञात

tum hi kaho kya karna hai

जब दुख की नदिया में हम ने अज्ञात

Zihaal-e-Miskeen - Sannata Soundtrack

अज्ञात

zihaal-e-miskin makun taghaful - زحالِِ مسکیں مکن تغافل

अज्ञात

अक़्ल गो आस्ताँ से दूर नहीं

अज्ञात

अगर यूँ ही ये दिल सताता रहेगा

अज्ञात

अच्छा है उन से कोई तक़ाज़ा किया न जाए

अज्ञात

अचानक दिलरुबा मौसम का दिल-आज़ार हो जाना

अज्ञात

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता

अज्ञात

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता

अज्ञात

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता

अज्ञात

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ए-यार होता

अज्ञात

अंधा कबाड़ी

शहर के गोशों में हैं बिखरे हुए अज्ञात

अनार कली

अज्ञात

अनोखी वज़्अ है सारे ज़माने से निराले हैं

अज्ञात

अपने सब यार काम कर रहे हैं

अज्ञात

अपने हाथों की लकीरों में सजा ले मुझ को

अज्ञात

अपने हाथों की लकीरों में सजा ले मुझ को

अज्ञात

अपने हाथों की लकीरों में सजा ले मुझ को

अज्ञात

अपना ग़म ले के कहीं और न जाया जाए

अज्ञात

अपनी तन्हाई मिरे नाम पे आबाद करे

अज्ञात

अपनी रुस्वाई तिरे नाम का चर्चा देखूँ

अज्ञात

अब आएँ या न आएँ इधर पूछते चलो

अज्ञात

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें

अज्ञात

अब तो ये भी नहीं रहा एहसास

अज्ञात

अब्जी डूडू

अज्ञात

अभी तो मैं जवान हूँ

हवा भी ख़ुश-गवार है अज्ञात

अभी हमारी मोहब्बत किसी को क्या मालूम

अज्ञात

अल्लाह दत्ता

अज्ञात

अश्क-ए-ग़म आँख से बाहर भी नहीं आने का

अज्ञात

अश्क-ए-रवाँ की नहर है और हम हैं दोस्तो

अज्ञात

असर करे न करे सुन तो ले मिरी फ़रियाद

अज्ञात

अस्ली जिन

अज्ञात

आ के पत्थर तो मिरे सहन में दो चार गिरे

अज्ञात

आ जाएँ हम नज़र जो कोई दम बहुत है याँ

अज्ञात

आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने

अज्ञात

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए

अज्ञात

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए

अज्ञात

आँखें

अज्ञात

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा

अज्ञात

आख़िरी सल्यूट

अज्ञात

आँखों पर चर्बी

अज्ञात

आँखों में जल रहा है प बुझता नहीं धुआँ

अज्ञात

आँखों में बस के दिल में समा कर चले गए

अज्ञात

आँखों से हया टपके है अंदाज़ तो देखो

अज्ञात

आज की शब तो किसी तौर गुज़र जाएगी

आज की शब तो किसी तौर गुज़र जाएगी अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज जाने की ज़िद न करो

आज जाने की ज़िद न करो अज्ञात

आज तो बे-सबब उदास है जी

अज्ञात

आप की याद आती रही रात भर

अज्ञात

आप की याद आती रही रात भर

अज्ञात

आप की याद आती रही रात भर

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आम

अज्ञात

आरज़ू है वफ़ा करे कोई

अज्ञात

आर्टिस्ट लोग

अज्ञात

आलम ही और था जो शनासाइयों में था

अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आवारा

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ अज्ञात

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक

अज्ञात

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक

अज्ञात

आह जो दिल से निकाली जाएगी

अज्ञात

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो

अज्ञात

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो

अज्ञात

इक दानिश-ए-नूरानी इक दानिश-ए-बुरहानी

अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इतना मालूम है!

अपने बिस्तर पे बहुत देर से मैं नीम-दराज़ अज्ञात

इंतिसाब

आज के नाम अज्ञात

इश्क़ में ग़ैरत-ए-जज़्बात ने रोने न दिया

अज्ञात

इस बस्ती के इक कूचे में

इस बस्ती के इक कूचे में इक 'इंशा' नाम का दीवाना अज्ञात

इंसान हैं हैवान यहाँ भी है वहाँ भी

अज्ञात

इसी में ख़ुश हूँ मिरा दुख कोई तो सहता है

अज्ञात

उस का अपना ही करिश्मा है फ़ुसूँ है यूँ है

अज्ञात

एक ख़त

अज्ञात

एक रह-गुज़र पर

वो जिस की दीद में लाखों मसर्रतें पिन्हाँ अज्ञात

एक लड़का

एक छोटा सा लड़का था मैं जिन दिनों अज्ञात

ऐ ज़ब्त देख इश्क़ की उन को ख़बर न हो

अज्ञात

ऐ दर्द-ए-इश्क़ तुझ से मुकरने लगा हूँ मैं

अज्ञात

औरत ज़ात

अज्ञात

औलाद

अज्ञात

कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया

कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया अज्ञात

कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया

कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया अज्ञात

कुत्ते

ये गलियों के आवारा बे-कार कुत्ते अज्ञात

कुत्ते

ये गलियों के आवारा बे-कार कुत्ते अज्ञात

कनार-ए-आब खड़ा ख़ुद से कह रहा है कोई

अज्ञात

कभी ऐ हक़ीक़त-ए-मुंतज़र नज़र आ लिबास-ए-मजाज़ में

अज्ञात

कभी कभी याद में उभरते हैं नक़्श-ए-माज़ी मिटे मिटे से

अज्ञात

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता

अज्ञात

कभी साया है कभी धूप मुक़द्दर मेरा

अज्ञात

कमाल-ए-ज़ब्त को ख़ुद भी तो आज़माऊँगी

अज्ञात

क्या करें

मिरी तिरी निगाह में अज्ञात

कुशादा दस्त-ए-करम जब वो बे-नियाज़ करे

अज्ञात

कहाँ आँसुओं की ये सौग़ात होगी

अज्ञात

काँटा सा जो चुभा था वो लौ दे गया है क्या

अज्ञात

किन लफ़्ज़ों में इतनी कड़वी इतनी कसीली बात लिखूँ

अज्ञात

किस से इज़हार-ए-मुद्दआ कीजे

अज्ञात

कोई फ़रियाद तिरे दिल में दबी हो जैसे

अज्ञात

कोई फ़रियाद तिरे दिल में दबी हो जैसे

अज्ञात

कोई फ़रियाद तिरे दिल में दबी हो जैसे

अज्ञात

कौन कहता है मोहब्बत की ज़बाँ होती है

अज्ञात

कौन याद आया ये महकारें कहाँ से आ गईं

अज्ञात

ख़ुदा असर से बचाए इस आस्ताने को

अज्ञात

ख़ुदी वो बहर है जिस का कोई किनारा नहीं

अज्ञात

खुली आँखों में सपना झाँकता है

अज्ञात

ख़ातिर से या लिहाज़ से मैं मान तो गया

अज्ञात

ख़िर्द-मंदों से क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या है

अज्ञात

ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता

अज्ञात

गुमाँ का मुमकिन- जो तू है मैं हूँ

करीम सूरज अज्ञात

गर्द-ए-सफ़र में राह ने देखा नहीं मुझे

अज्ञात

गुलों को छू के शमीम-ए-दुआ नहीं आई

अज्ञात

गुलों सी गुफ़्तुगू करें क़यामतों के दरमियाँ

अज्ञात

गिरजा में मंदिरों में अज़ानों में बट गया

अज्ञात

गो ज़रा सी बात पर बरसों के याराने गए

अज्ञात

घर का रस्ता भी मिला था शायद

अज्ञात

घर की दहलीज़ से बाज़ार में मत आ जाना

अज्ञात

चंद रोज़ और मिरी जान

चंद रोज़ और मिरी जान फ़क़त चंद ही रोज़ अज्ञात

चाँदनी छत पे चल रही होगी

अज्ञात

छोटे छोटे कई बे-फ़ैज़ मफ़ादात के साथ

अज्ञात

छोटे छोटे से मफ़ादात लिए फिरते हैं

अज्ञात

जड़ें

अज्ञात

जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है

अज्ञात

जब इतनी जाँ से मोहब्बत बढ़ा के रक्खी थी

अज्ञात

जब इश्क़ सिखाता है आदाब-ए-ख़ुद-आगाही

अज्ञात

ज़ब्त कर के हँसी को भूल गया

अज्ञात

ज़माना ख़ुदा है

''ज़माना ख़ुदा है उसे तुम बुरा मत कहो'' अज्ञात

ज़रा सी धूप ज़रा सी नमी के आने से

अज्ञात

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर

अज्ञात

ज़ुल्मत को ज़िया सरसर को सबा बंदे को ख़ुदा क्या लिखना

ज़ुल्मत को ज़िया सरसर को सबा बंदे को ख़ुदा क्या लिखना अज्ञात

जवाब-ए-शिकवा

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है अज्ञात

जहाँ तेरा नक़्श-ए-क़दम देखते हैं

अज्ञात

जाने किस चाह के किस प्यार के गुन गाते हो

अज्ञात

ज़िंदगी से डरते हो

ज़िंदगी से डरते हो! अज्ञात

ज़िंदगी से डरते हो

ज़िंदगी से डरते हो! अज्ञात

ज़िंदाँ की एक शाम

शाम के पेच-ओ-ख़म सितारों से अज्ञात

जिस सम्त भी देखूँ नज़र आता है कि तुम हो

अज्ञात

जो अपनी है वो ख़ाक-ए-दिल-नशीं ही काम आएगी

अज्ञात

जो अब भी न तकलीफ़ फ़रमाइएगा

अज्ञात

जो चराग़ सारे बुझा चुके उन्हें इंतिज़ार कहाँ रहा

अज्ञात

तू इस क़दर मुझे अपने क़रीब लगता है

अज्ञात

तू जब मेरे घर आया था

अज्ञात

तू है गर मुझ से ख़फ़ा ख़ुद से ख़फ़ा हूँ मैं भी

अज्ञात

तुम पूछो और मैं न बताऊँ ऐसे तो हालात नहीं

अज्ञात

तुम पूछो और मैं न बताऊँ ऐसे तो हालात नहीं

अज्ञात

तुम्हें ख़याल-ए-ज़ात है शुऊर-ए-ज़ात ही नहीं

अज्ञात

तमाशा-ए-दैर-ओ-हरम देखते हैं

अज्ञात

तराश कर मिरे बाज़ू उड़ान छोड़ गया

अज्ञात

तेरी ख़ुश्बू का पता करती है

अज्ञात

तेरी सूरत जो दिल-नशीं की है

अज्ञात

तस्वीर-ए-दर्द

नहीं मिन्नत-कश-ए-ताब-ए-शुनीदन दास्ताँ मेरी अज्ञात

देखा हुआ सा कुछ है तो सोचा हुआ सा कुछ

अज्ञात

दिन को भी इतना अंधेरा है मिरे कमरे में

अज्ञात

दिल की बात लबों पर ला कर अब तक हम दुख सहते हैं

अज्ञात

दिल की बात लबों पर ला कर अब तक हम दुख सहते हैं

अज्ञात

दिल की बात लबों पर ला कर अब तक हम दुख सहते हैं

अज्ञात

दिल को ग़म-ए-हयात गवारा है इन दिनों

अज्ञात

दिल चुरा कर नज़र चुराई है

अज्ञात

दिल मिरा जिस से बहलता कोई ऐसा न मिला

अज्ञात

दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िश्त दर्द से भर न आए क्यूँ

अज्ञात

दिल-ए-मन मुसाफ़िर-ए-मन

मिरे दिल, मिरे मुसाफ़िर अज्ञात

दीप था या तारा क्या जाने

अज्ञात

दो हाथ

अज्ञात

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो

अज्ञात

न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ

अज्ञात

न गुमान मौत का है न ख़याल ज़िंदगी का

अज्ञात

न जी भर के देखा न कुछ बात की

अज्ञात

न तख़्त-ओ-ताज में ने लश्कर-ओ-सिपाह में है

अज्ञात

नन्ही पुजारन

इक नन्ही मुन्नी सी पुजारन अज्ञात

नर्म फ़ज़ा की करवटें दिल को दुखा के रह गईं

अज्ञात

नूरा

वो नौ-ख़ेज़ नूरा वो इक बिन्त-ए-मरियम अज्ञात

नूरा

वो नौ-ख़ेज़ नूरा वो इक बिन्त-ए-मरियम अज्ञात

निय्यत-ए-शौक़ भर न जाए कहीं

अज्ञात

नींद आँखों से उड़ी फूल से ख़ुश्बू की तरह

अज्ञात

नौ-जवान ख़ातून से

हिजाब-ए-फ़ित्ना-परवर अब उठा लेती तो अच्छा था अज्ञात

नौ-जवान से

जलाल-ए-आतिश-ओ-बर्क़-ओ-सहाब पैदा कर अज्ञात

पल पल जीने की ख़्वाहिश में कर्ब-ए-शाम-ओ-सहर माँगा

अज्ञात

पाँव से लहू को धो डालो

हम क्या करते किस रह चलते अज्ञात

फ़र्ज़ करो

फ़र्ज़ करो हम अहल-ए-वफ़ा हों, फ़र्ज़ करो दीवाने हों अज्ञात

फूल थे रंग थे लम्हों की सबाहत हम थे

अज्ञात

फूल मुरझा गए सारे

फूल मुरझा गए हैं सारे अज्ञात

फ़ितरत को ख़िरद के रू-ब-रू कर

अज्ञात

फिर शब-ए-ग़म ने मुझे शक्ल दिखाई क्यूँकर

अज्ञात

बग़ैर उस के अब आराम भी नहीं आता

अज्ञात

बचनी

अज्ञात

बंजारा-नामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा अज्ञात

बंजारा-नामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा अज्ञात

बुझा दिए हैं ख़ुद अपने हाथों मोहब्बतों के दिए जला के

अज्ञात

बदतमीज़ी

अज्ञात

बदन कजला गया तो दिल की ताबानी से निकलूँगा

अज्ञात

बदसूरती

अज्ञात

बदसूरती

अज्ञात

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

अज्ञात

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

अज्ञात

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

अज्ञात

बर्क़-ए-कलीसा

अज्ञात

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो न थी

अज्ञात

बात मेरी कभी सुनी ही नहीं

अज्ञात

बादशाहत का ख़ात्मा

अज्ञात

बाबू गोपीनाथ

अज्ञात

बारिश

अज्ञात

बिंदराबन के कृष्ण-कन्हैया अल्लाह-हू

अज्ञात

बीमार

अज्ञात

भुलाता लाख हूँ लेकिन बराबर याद आते हैं

अज्ञात

भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार कहीं और चलें

अज्ञात

मैं आरज़ू-ए-जाँ लिखूँ या जान-ए-आरज़ू!

अज्ञात

मजनूँ ने शहर छोड़ा तो सहरा भी छोड़ दे

अज्ञात

मुजरिम

यही रस्ता मिरी मंज़िल की तरफ़ जाता है अज्ञात

मुझे वो कुंज-ए-तन्हाई से आख़िर कब निकालेगा

अज्ञात

मुझ से ऊँचा तिरा क़द है, हद है

अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग अज्ञात

मता-ए-बे-बहा है दर्द-ओ-सोज़-ए-आरज़ूमंदी

अज्ञात

मुरझा के काली झील में गिरते हुए भी देख

अज्ञात

मुशीर

मैं ने उस से ये कहा अज्ञात

मुसलमाँ के लहू में है सलीक़ा दिल-नवाज़ी का

अज्ञात

मिट्टी का दिया

झुटपुटे के वक़्त घर से एक मिट्टी का दिया अज्ञात

मिटा दिया मिरे साक़ी ने आलम-ए-मन-ओ-तू

अज्ञात

मिल ही जाएगा कभी दिल को यक़ीं रहता है

अज्ञात

मोहब्बत का असर जाता कहाँ है

अज्ञात

मोहब्बत में ये क्या मक़ाम आ रहे हैं

अज्ञात

ये ठीक है कि बहुत वहशतें भी ठीक नहीं

अज्ञात

ये हसीं लोग हैं तू इन की मुरव्वत पे न जा

अज्ञात

यक़ीन का अगर कोई भी सिलसिला नहीं रहा

अज्ञात

याद

आई जब उन की याद तो आती चली गई अज्ञात

रक़्स

ऐ मिरी हम-रक़्स मुझ को थाम ले अज्ञात

रुकी रुकी सी शब-ए-मर्ग ख़त्म पर आई

अज्ञात

रंग बे-रंग हों ख़ुशबू का भरोसा जाए

अज्ञात

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ

अज्ञात

रस्ता भी कठिन धूप में शिद्दत भी बहुत थी

अज्ञात

रात और रेल

फिर चली है रेल स्टेशन से लहराती हुई अज्ञात

रात और रेल

फिर चली है रेल स्टेशन से लहराती हुई अज्ञात

रात के बा'द नए दिन की सहर आएगी

अज्ञात

रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं

अज्ञात

रौशनी मुझ से गुरेज़ाँ है तो शिकवा भी नहीं

अज्ञात

ले उड़ा फिर कोई ख़याल हमें

अज्ञात

लहू न हो तो क़लम तर्जुमाँ नहीं होता

अज्ञात

लाओ तो क़त्ल-नामा मिरा

सुनने को भीड़ है सर-ए-महशर लगी हुई अज्ञात

लिहाफ़

अज्ञात

वतन का राग

भारत प्यारा देश हमारा सब देशों से न्यारा है अज्ञात

व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक

हम देखेंगे अज्ञात

व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक

हम देखेंगे अज्ञात

वहाँ पहुँच के ये कहना सबा सलाम के बाद

अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

अज्ञात

वो इश्क़ जो हम से रूठ गया अब उस का हाल बताएँ क्या

अज्ञात

वो दिल ही क्या तिरे मिलने की जो दुआ न करे

अज्ञात

वो दिल ही क्या तिरे मिलने की जो दुआ न करे

अज्ञात

वो दिल ही क्या तिरे मिलने की जो दुआ न करे

अज्ञात

वो दिल ही क्या तिरे मिलने की जो दुआ न करे

अज्ञात

वो मजबूरी नहीं थी ये अदाकारी नहीं है

अज्ञात

शरमा गए लजा गए दामन छुड़ा गए

अज्ञात

शिकस्त-ए-तौबा

साक़ी की हर निगाह पे बल खा के पी गया अज्ञात

शिकस्त-ए-तौबा

साक़ी की हर निगाह पे बल खा के पी गया अज्ञात

शौक़ से नाकामी की बदौलत कूचा-ए-दिल ही छूट गया

अज्ञात

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

अज्ञात

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

अज्ञात

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

अज्ञात

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

अज्ञात

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

अज्ञात

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

अज्ञात

सब ने मिलाए हाथ यहाँ तीरगी के साथ

अज्ञात

संसार की हर शय का इतना ही फ़साना है

अज्ञात

साए

किसी साए का नक़्श गहरा नहीं है अज्ञात

साँस लेना भी सज़ा लगता है

अज्ञात

सिलसिले के बाद कोई सिलसिला रौशन करें

अज्ञात

सीना दहक रहा हो तो क्या चुप रहे कोई

अज्ञात

है जुस्तुजू कि ख़ूब से है ख़ूब-तर कहाँ

अज्ञात

हज़ार ख़ौफ़ हो लेकिन ज़बाँ हो दिल की रफ़ीक़

अज्ञात

हम तो मजबूर-ए-वफ़ा हैं

तुझ को कितनों का लहू चाहिए ऐ अर्ज़-ए-वतन अज्ञात

हम ने काटी हैं तिरी याद में रातें अक्सर

अज्ञात

हम भी शाइ'र थे कभी जान-ए-सुख़न याद नहीं

अज्ञात

हमेशा देर कर देता हूँ

हमेशा देर कर देता हूँ मैं हर काम करने में अज्ञात

हर इक दरीचा किरन किरन है जहाँ से गुज़रे जिधर गए हैं

अज्ञात

हर एक जल्वा-ए-रंगीं मिरी निगाह में है

अज्ञात

हर एक शब यूँही देखेंगी सू-ए-दर आँखें

अज्ञात

हर गाम सँभल सँभल रही थी

अज्ञात

हैरतों के सिलसिले सोज़-ए-निहाँ तक आ गए

अज्ञात

हार्ट-अटैक

दर्द इतना था कि उस रात दिल-ए-वहशी ने अज्ञात

हाल खुलता नहीं जबीनों से

अज्ञात

हिन्दुस्तानी बच्चों का क़ौमी गीत

चिश्ती ने जिस ज़मीं में पैग़ाम-ए-हक़ सुनाया अज्ञात

होली

आ धमके ऐश ओ तरब क्या क्या जब हुस्न दिखाया होली ने अज्ञात

ruk gaya aankh se behta hua dariya kaise

अज्ञात