Waseem Barelvi's Photo'

वसीम बरेलवी

1940 | बरेली, भारत

लोकप्रिय शायर।

लोकप्रिय शायर।

वसीम बरेलवी

ग़ज़ल 65

नज़्म 10

अशआर 70

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे

तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे

जहाँ रहेगा वहीं रौशनी लुटाएगा

किसी चराग़ का अपना मकाँ नहीं होता

व्याख्या

इस शे’र में कई अर्थ ऐसे हैं जिनसे अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि वसीम बरेलवी शे’र में अर्थ के साथ कैफ़ियत पैदा करने की कला से परिचित हैं। ‘जहाँ’ के सन्दर्भ से ‘वहीं’ और इन दोनों के सन्दर्भ से ‘मकाँ’, ‘चराग़’ के सन्दर्भ से ‘रौशनी’ और इससे बढ़कर ‘किसी’ ये सब ऐसे लक्षण हैं जिनसे शे’र में अर्थोत्पत्ति का तत्व पैदा हुआ है।

शे’र के शाब्दिक अर्थ तो ये हो सकते हैं कि चराग़ अपनी रौशनी से किसी एक मकाँ को रौशन नहीं करता है, बल्कि जहाँ जलता है वहाँ की फ़िज़ा को प्रज्वलित करता है। इस शे’र में एक शब्द 'मकाँ' केंद्र में है। मकाँ से यहाँ तात्पर्य मात्र कोई ख़ास घर नहीं बल्कि स्थान है।

अब आइए शे’र के भावार्थ पर प्रकाश डालते हैं। दरअसल शे’र में ‘चराग़’, ‘रौशनी’ और ‘मकाँ’ की एक लाक्षणिक स्थिति है। चराग़ रूपक है नेक और भले आदमी का, उसके सन्दर्भ से रोशनी रूपक है नेकी और भलाई का। इस तरह शे’र का अर्थ ये बनता है कि नेक आदमी किसी ख़ास जगह नेकी और भलाई फैलाने के लिए पैदा नहीं होते बल्कि उनका कोई विशेष मकान नहीं होता और ये स्थान की अवधारणा से बहुत आगे के लोग होते हैं। बस शर्त ये है कि आदमी भला हो। अगर ऐसा है तो भलाई हर जगह फैल जाती है।

शफ़क़ सुपुरी

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है

भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है

  • शेयर कीजिए

दुख अपना अगर हम को बताना नहीं आता

तुम को भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता

वो झूट बोल रहा था बड़े सलीक़े से

मैं ए'तिबार करता तो और क्या करता

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 11

गीत 1

 

पुस्तकें 5

 

चित्र शायरी 15

वीडियो 37

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
2013 BAHRAIN (Sham-e-Gulzar)

वसीम बरेलवी

43rd Shri Ram Kavi Sammelan Held At Modern School , Barakhamba Road , New Delhi on Nov 23 , 2013

वसीम बरेलवी

Dhahran Mushaira

वसीम बरेलवी

Dubai Mushaira 2014 - part 2

वसीम बरेलवी

Hawa Andheron Ke

वसीम बरेलवी

Indore Mushaira - Sarahado Se Aage - 2012

वसीम बरेलवी

Main Kis Bairi Ke Dwar- Waseem Barelvi

वसीम बरेलवी

Sulagti Ankhon Se Unwaney Sham Likhta hai

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi - Jashn-e-Waseem Barelvi Houston 2009

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi - Lucknow Mahotsav- Main zamane ki

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi (Jashn-e-Waseem Barelvi Houston 2009)

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi at Mushaira

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi at Mushaira

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi at Mushaira

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi at Mushaira Haidrabad

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi Dewa Mahotsav Uski Gali Mein Roz Ka Aana Jana Hai

वसीम बरेलवी

Waseem Barelvi Lucknow Mahotsav Nain Se Nain Mila Kar Dekho

वसीम बरेलवी

Yaad-e-Masoom Mushaira & Kavi Sammelan, Moradabad 2012

वसीम बरेलवी

क्या दुख है समुंदर को बता भी नहीं सकता

वसीम बरेलवी

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है

वसीम बरेलवी

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते

वसीम बरेलवी

निगाहों के तक़ाज़े चैन से मरने नहीं देते

वसीम बरेलवी

बीते हुए दिन ख़ुद को जब दोहराते हैं

वसीम बरेलवी

मैं आसमाँ पे बहुत देर रह नहीं सकता

वसीम बरेलवी

मैं इस उमीद पे डूबा कि तू बचा लेगा

वसीम बरेलवी

मुझे बुझा दे मिरा दौर मुख़्तसर कर दे

वसीम बरेलवी

संबंधित शायर

"बरेली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए