noImage

ज़ैनुल आब्दीन ख़ाँ आरिफ़

1817 | दिल्ली, भारत

अहम क्लासिकी शायर, ग़ालिब की बीवी के भांजे, जिन्हें ग़ालिब ने अपने सात बच्चों के असमय निधन के बाद बेटा बना लिया था. ग़ालिब आरिफ़ की शायरी के प्रशंसकों में भी शामिल थे

अहम क्लासिकी शायर, ग़ालिब की बीवी के भांजे, जिन्हें ग़ालिब ने अपने सात बच्चों के असमय निधन के बाद बेटा बना लिया था. ग़ालिब आरिफ़ की शायरी के प्रशंसकों में भी शामिल थे

ग़ज़ल 14

शेर 16

आप को ख़ून के आँसू ही रुलाना होगा

हाल-ए-दिल कहने को हम अपना अगर बैठ गए

तुम अपनी ज़ुल्फ़ से पूछो मिरी परेशानी

कि हाल उस को है मालूम हू-ब-हू मेरा

कर दिया तीरों से छलनी मुझे सारा लेकिन

ख़ून होने के लिए उस ने जिगर छोड़ दिया

संबंधित शायर

  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब गुरु
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब सम्बन्ध

"दिल्ली" के और शायर

  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • ज़हीर देहलवी ज़हीर देहलवी
  • मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता
  • मीर मेहदी मजरूह मीर मेहदी मजरूह
  • ऐश देहलवी ऐश देहलवी
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • अब्दुल रहमान एहसान देहलवी अब्दुल रहमान एहसान देहलवी
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी