Zeb Ghauri's Photo'

ज़ेब ग़ौरी

1928 - 1985 | कानपुर, भारत

भारत में अग्रणी आधुनिक शायरों में विख्यात।

भारत में अग्रणी आधुनिक शायरों में विख्यात।

ग़ज़ल 61

शेर 59

ज़ख़्म लगा कर उस का भी कुछ हाथ खुला

मैं भी धोका खा कर कुछ चालाक हुआ

जितना देखो उसे थकती नहीं आँखें वर्ना

ख़त्म हो जाता है हर हुस्न कहानी की तरह

अधूरी छोड़ के तस्वीर मर गया वो 'ज़ेब'

कोई भी रंग मयस्सर था लहू के सिवा

दिल है कि तिरी याद से ख़ाली नहीं रहता

शायद ही कभी मैं ने तुझे याद किया हो

ज़ख़्म ही तेरा मुक़द्दर हैं दिल तुझ को कौन सँभालेगा

मेरे बचपन के साथी मेरे साथ ही मर जाना

पुस्तकें 3

Chak

 

1985

Zard Zarkhez

 

1976

Shumara Number-008,009

1985

 

ऑडियो 51

अक्स-ए-फ़लक पर आईना है रौशन आब ज़ख़ीरों का

अक्स-ए-फ़लक पर आईना है रौशन आब ज़ख़ीरों का

कब तलक ये शाला-ए-बे-रंग मंज़र देखिए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"कानपुर" के और शायर

  • मोहम्मद अहमद रम्ज़ मोहम्मद अहमद रम्ज़
  • मतीन नियाज़ी मतीन नियाज़ी
  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी
  • मयंक अवस्थी मयंक अवस्थी
  • अबुल हसनात हक़्क़ी अबुल हसनात हक़्क़ी
  • असलम महमूद असलम महमूद
  • चाँदनी पांडे चाँदनी पांडे
  • क़ौसर जायसी क़ौसर जायसी
  • फ़रहत कानपुरी फ़रहत कानपुरी
  • शोएब निज़ाम शोएब निज़ाम