aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Amjad Islam Amjad's Photo'

अमजद इस्लाम अमजद

1944 - 2023 | लाहौर, पाकिस्तान

मशहूर शायर और पाकिस्तानी टीवी सीरियलों के प्रसिद्ध लेखक

मशहूर शायर और पाकिस्तानी टीवी सीरियलों के प्रसिद्ध लेखक

अमजद इस्लाम अमजद के शेर

12.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कहाँ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा

वो जो मिल गया उसे याद रख जो नहीं मिला उसे भूल जा

जिस तरफ़ तू है उधर होंगी सभी की नज़रें

ईद के चाँद का दीदार बहाना ही सही

जहाँ हो प्यार ग़लत-फ़हमियाँ भी होती हैं

सो बात बात पे यूँ दिल बुरा नहीं करते

उस के लहजे में बर्फ़ थी लेकिन

छू के देखा तो हाथ जलने लगे

बड़े सुकून से डूबे थे डूबने वाले

जो साहिलों पे खड़े थे बहुत पुकारे भी

वो तिरे नसीब की बारिशें किसी और छत पे बरस गईं

दिल-ए-बे-ख़बर मिरी बात सुन उसे भूल जा उसे भूल जा

लिखा था एक तख़्ती पर कोई भी फूल मत तोड़े मगर आँधी तो अन-पढ़ थी

सो जब वो बाग़ से गुज़री कोई उखड़ा कोई टूटा ख़िज़ाँ के आख़िरी दिन थे

सवाल ये है कि आपस में हम मिलें कैसे

हमेशा साथ तो चलते हैं दो किनारे भी

जैसे बारिश से धुले सेहन-ए-गुलिस्ताँ 'अमजद'

आँख जब ख़ुश्क हुई और भी चेहरा चमका

चेहरे पे मिरे ज़ुल्फ़ को फैलाओ किसी दिन

क्या रोज़ गरजते हो बरस जाओ किसी दिन

किस क़दर यादें उभर आई हैं तेरे नाम से

एक पत्थर फेंकने से पड़ गए कितने भँवर

हर बात जानते हुए दिल मानता था

हम जाने ए'तिबार के किस मरहले में थे

जैसे रेल की हर खिड़की की अपनी अपनी दुनिया है

कुछ मंज़र तो बन नहीं पाते कुछ पीछे रह जाते हैं

ज़िंदगी दर्द भी दवा भी थी

हम-सफ़र भी गुरेज़-पा भी थी

उस ने आहिस्ता से जब पुकारा मुझे

झुक के तकने लगा हर सितारा मुझे

पेड़ों की तरह हुस्न की बारिश में नहा लूँ

बादल की तरह झूम के घर आओ किसी दिन

बे-समर पेड़ों को चूमेंगे सबा के सब्ज़ लब

देख लेना ये ख़िज़ाँ बे-दस्त-ओ-पा रह जाएगी

सुना है कानों के कच्चे हो तुम बहुत सो हम

तुम्हारे शहर में सब से बना के रखते हैं

साए ढलने चराग़ जलने लगे

लोग अपने घरों को चलने लगे

क्या हो जाता है इन हँसते जीते जागते लोगों को

बैठे बैठे क्यूँ ये ख़ुद से बातें करने लगते हैं

ये जो हासिल हमें हर शय की फ़रावानी है

ये भी तो अपनी जगह एक परेशानी है

तिरे फ़िराक़ की सदियाँ तिरे विसाल के पल

शुमार-ए-उम्र में ये माह साल से कुछ हैं

फिर आज कैसे कटेगी पहाड़ जैसी रात

गुज़र गया है यही बात सोचते हुए दिन

तुम्ही ने कौन सी अच्छाई की है

चलो माना कि मैं अच्छा नहीं था

हमें हमारी अनाएँ तबाह कर देंगी

मुकालमे का अगर सिलसिला नहीं करते

बात तो कुछ भी नहीं थीं लेकिन उस का एक दम

हाथ को होंटों पे रख कर रोकना अच्छा लगा

हर समुंदर का एक साहिल है

हिज्र की रात का किनारा नहीं

गुज़रें जो मेरे घर से तो रुक जाएँ सितारे

इस तरह मिरी रात को चमकाओ किसी दिन

बेवफ़ा तो वो ख़ैर था 'अमजद'

लेकिन उस में कहीं वफ़ा भी थी

दूरियाँ सिमटने में देर कुछ तो लगती है

रंजिशों के मिटने में देर कुछ तो लगती है

एक नज़र देखा था उस ने आगे याद नहीं

खुल जाती है दरिया की औक़ात समुंदर में

माना नज़र के सामने है बे-शुमार धुँद

है देखना कि धुँद के इस पार कौन है

कमाल-ए-हुस्न है हुस्न-ए-कमाल से बाहर

अज़ल का रंग है जैसे मिसाल से बाहर

हादिसा भी होने में वक़्त कुछ तो लेता है

बख़्त के बिगड़ने में देर कुछ तो लगती है

तुम ही ने पाँव रक्खा वगरना वस्ल की शब

ज़मीं पे हम ने सितारे बिछा के रक्खे थे

कुछ ऐसी बे-यक़ीनी थी फ़ज़ा में

जो अपने थे वो बेगाने लगे हैं

सदियाँ जिन में ज़िंदा हों वो सच भी मरने लगते हैं

धूप आँखों तक जाए तो ख़्वाब बिखरने लगते हैं

बिछड़ के तुझ से जी पाए मुख़्तसर ये है

इस एक बात से निकली है दास्ताँ क्या क्या

क़दम उठा है तो पाँव तले ज़मीं ही नहीं

सफ़र का रंज हमें ख़्वाहिश-ए-सफ़र से हुआ

इतने ख़दशे नहीं हैं रस्तों में

जिस क़दर ख़्वाहिश-ए-सफ़र में हैं

दाम-ए-ख़ुशबू में गिरफ़्तार सबा है कब से

लफ़्ज़ इज़हार की उलझन में पड़ा है कब से

आँखों में कैसे तन गई दीवार-ए-बे-हिसी

सीनों में घुट के रह गई आवाज़ किस तरह

शहर-ए-सुख़न में ऐसा कुछ कर इज़्ज़त बन जाए

सब कुछ मिट्टी हो जाता है इज़्ज़त रहती है

शबनमी आँखों के जुगनू काँपते होंटों के फूल

एक लम्हा था जो 'अमजद' आज तक गुज़रा नहीं

गाहे गाहे ही सही 'अमजद' मगर ये वाक़िआ'

यूँ भी लगता है कि दुनिया का ख़ुदा कोई नहीं

तीर आया था जिधर ये मिरे शहर के लोग

कितने सादा हैं कि मरहम भी वहीं देखते हैं

यूँ तो हर रात चमकते हैं सितारे लेकिन

वस्ल की रात बहुत सुब्ह का तारा चमका

वो सामने है फिर भी दिखाई दे सके

मेरे और उस के बीच ये दीवार कौन है

साए लरज़ते रहते हैं शहरों की गलियों में

रहते थे इंसान जहाँ अब दहशत रहती है

ज़ख़्म ये वस्ल के मरहम से भी शायद भरे

हिज्र में ऐसी मिली अब के मसाफ़त हम को

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए