Asima Tahir's Photo'

पाकिस्तान की युवा कवयित्रियों में एक महत्वपूर्ण नाम

पाकिस्तान की युवा कवयित्रियों में एक महत्वपूर्ण नाम

683
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मिरे वजूद के अंदर है इक क़दीम मकान

जहाँ से मैं ये उदासी उधार लेती हूँ

हम ने जब हाल-ए-दिल उन से अपना कहा

वो भी क़िस्सा किसी का सुनाने लगे

ख़्वाब का इंतिज़ार ख़त्म हुआ

आँख को नींद से जगाते हैं

नहीं वो इतना भी पागल नहीं था

जो मर जाता मिरी वाबस्तगी में

चुभ रही है अँधेरी रात मुझे

हर सितारा बुझाए बैठी हूँ

शाम खुलती है तेरे आने से

लब पे तेरा सवाल रखती है

आइने पर तो है भरोसा मुझे

उस से क्यूँ मुँह छुपाए बैठी हूँ

ख़ुश्बू जैसी रात ने मेरा

अपने जैसा हाल किया था

डूबने की तैरने की ख़बर

इश्क़-दरिया में बस उतर देखूँ

मुझ को ख़्वाबों के बाग़ में ला कर

घने जंगल में खो रही है रात

शहज़ादी के कानों में जो बात कही थी इक तू ने

ब'अद तिरे वो बात तिरे ही अफ़्सानों में गूँजती है

बाम-ओ-दर पर उतरने वाली धूप

सब्ज़ रंग-ए-मलाल रखती है