Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Azhar Faragh's Photo'

पाकिस्तान की नई पीढ़ी के मशहूर शायर, ‘मैं किसी दास्तान से उभरूँगा’ इनके काव्य संग्रह का नाम है

पाकिस्तान की नई पीढ़ी के मशहूर शायर, ‘मैं किसी दास्तान से उभरूँगा’ इनके काव्य संग्रह का नाम है

अज़हर फ़राग़ के शेर

7.6K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जब तक माथा चूम के रुख़्सत करने वाली ज़िंदा थी

दरवाज़े के बाहर तक भी मुँह में लुक़्मा होता था

दफ़्तर से मिल नहीं रही छुट्टी वगर्ना मैं

बारिश की एक बूँद बे-कार जाने दूँ

दीवारें छोटी होती थीं लेकिन पर्दा होता था

तालों की ईजाद से पहले सिर्फ़ भरोसा होता था

तेरी शर्तों पे ही करना है अगर तुझ को क़ुबूल

ये सुहुलत तो मुझे सारा जहाँ देता है

ख़तों को खोलती दीमक का शुक्रिया वर्ना

तड़प रही थी लिफ़ाफ़ों में बे-ज़बानी पड़ी

ये नहीं देखते कितनी है रियाज़त किस की

लोग आसान समझ लेते हैं आसानी को

मैं जानता हूँ मुझे मुझ से माँगने वाले

पराई चीज़ का जो लोग हाल करते हैं

बता रहा है झटकना तिरी कलाई का

ज़रा भी रंज नहीं है तुझे जुदाई का

उस से हम पूछ थोड़ी सकते हैं

उस की मर्ज़ी जहाँ रखे जिस को

मेरी नुमू है तेरे तग़ाफ़ुल से वाबस्ता

कम बारिश भी मुझ को काफ़ी हो सकती है

अच्छे-ख़ासे लोगों पर भी वक़्त इक ऐसा जाता है

और किसी पर हँसते हँसते ख़ुद पर रोना जाता है

इज़ाला हो गया ताख़ीर से निकलने का

गुज़र गई है सफ़र में मिरे क़याम की शाम

उसे कहो जो बुलाता है गहरे पानी में

किनारे से बंधी कश्ती का मसअला समझे

मिल गया तू मुझे मेरा नहीं रहने देगा

वो समुंदर मुझे क़तरा नहीं रहने देगा

हमारे ज़ाहिरी अहवाल पर जा हम लोग

क़याम अपने ख़द-ओ-ख़ाल में नहीं करते

आँख खुलते ही जबीं चूमने जाते हैं

हम अगर ख़्वाब में भी तुम से लड़े होते हैं

ऐसी ग़ुर्बत को ख़ुदा ग़ारत करे

फूल भेजवाने की गुंजाइश हो

वो दस्तियाब हमें इस लिए नहीं होता

हम इस्तिफ़ादा नहीं देख-भाल करते हैं

किसी बदन की सयाहत निढाल करती है

किसी के हाथ का तकिया थकान खींचता है

ये ए'तिमाद भी मेरा दिया हुआ है तुम्हें

जो मेरे मशवरे बे-कार जाने लग गए हैं

बदल के देख चुकी है रेआया साहिब-ए-तख़्त

जो सर क़लम नहीं करता ज़बान खींचता है

कुछ नहीं दे रहा सुझाई हमें

इस क़दर रौशनी का क्या कीजे

तुझ से कुछ और त'अल्लुक़ भी ज़रूरी है मिरा

ये मोहब्बत तो किसी वक़्त भी मर सकती है

तेज़ आँधी में ये भी काफ़ी है

पेड़ तस्वीर में बचा लिया जाए

हाए वो भीगा रेशमी पैकर

तौलिया खुरदुरा लगे जिस को

ये ख़मोशी मिरी ख़मोशी है

इस का मतलब मुकालिमा लिया जाए

ठहरना भी मिरा जाना शुमार होने लगा

पड़े पड़े मैं पुराना शुमार होने लगा

मैं ये चाहता हूँ कि उम्र-भर रहे तिश्नगी मिरे इश्क़ में

कोई जुस्तुजू रहे दरमियाँ तिरे साथ भी तिरे बा'द भी

ये कच्चे सेब चबाने में इतने सहल नहीं

हमारा सब्र करना भी एक हिम्मत है

बहुत से साँप थे इस ग़ार के दहाने पर

दिल इस लिए भी ख़ज़ाना शुमार होने लगा

बहुत ग़नीमत हैं हम से मिलने कभी कभी के ये आने वाले

वगर्ना अपना तो शहर भर में मकान ताले से जाना जाए

हमारी मा'ज़रत ग़म कि मुस्कुरा रहे हैं

हम अपना हाथ तिरी पुश्त से हटा रहे हैं

महसूस कर लिया था भँवर की थकान को

यूँही तो ख़ुद को रक़्स पे माइल नहीं किया

ख़ुद पर हराम समझा समर के हुसूल को

जब तक शजर को छाँव के क़ाबिल नहीं किया

हम अपनी नेकी समझते तो हैं तुझे लेकिन

शुमार नामा-ए-आमाल में नहीं करते

एक ही वक़्त में प्यासे भी हैं सैराब भी हैं

हम जो सहराओं की मिट्टी के घड़े होते हैं

वस्ल के एक ही झोंके में

कान से बाले उतर गए

ये जो रहते हैं बहुत मौज में शब भर हम लोग

सुब्ह होते ही किनारे पे पड़े होते हैं

वैसे तो ईमान है मेरा उन बाँहों की गुंजाइश पर

देखना ये है उस कश्ती में कितना दरिया जाता है

एक होने की क़स्में खाई जाएँ

और आख़िर में कुछ दिया लिया जाए

मेरा इश्क़ तो ख़ैर मिरी महरूमी का पर्वर्दा था

क्या मालूम था वो भी देगा मेरा इतना टूट के साथ

निकल गया था वो हसीन अपनी ज़ुल्फ़ बाँध कर

हवा की बाक़ियात को समेटते रहे हैं हम

गीले बालों को सँभाल और निकल जंगल से

इस से पहले कि तिरे पाँव ये झरना पड़ जाए

गिरते पेड़ों की ज़द में हैं हम लोग

क्या ख़बर रास्ता खुले कब तक

ये लोग जा के कटी बोगियों में बैठ गए

समय को रेल की पटरी के साथ चलने दिया

भँवर से ये जो मुझे बादबान खींचता है

ज़रूर कोई हवाओं के कान खींचता है

दलील उस के दरीचे की पेश की मैं ने

किसी को पतली गली से नहीं निकलने दिया

मंज़र-ए-शाम-ए-ग़रीबाँ है दम-ए-रुख़्सत-ए-ख़्वाब

ताज़िए की तरह उट्ठा है कोई बिस्तर से

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए