बशीर महताब

ग़ज़ल 11

अशआर 25

मोहब्बत बाँटना सीखो मोहब्बत है अता रब की

मोहब्बत बाँटने वाले तवील-उल-उम्र होते हैं

  • शेयर कीजिए

हसीं यादें वो बचपन की कहीं दिल से खो जाएँ

मैं अपने आशियाने में खिलौने अब भी रखता हूँ

  • शेयर कीजिए

जिसे मंज़िल समझ कर रुक गए हम

वहीं से अपना आग़ाज़-ए-सफ़र था

  • शेयर कीजिए

ये बातों में नर्मी ये तहज़ीब-ओ-आदाब

सभी कुछ मिला हम को उर्दू ज़बाँ से

  • शेयर कीजिए

शायद हमारे हिज्र में लफ़्ज़ों का हाथ था

इक लफ़्ज़-ए-ग़ैर ने तो पराया ही कर दिया

  • शेयर कीजिए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए