ग़ज़ल 12

शेर 7

तिरा दीदार हो आँखें किसी भी सम्त देखें

सो हर चेहरे में अब तेरी शबाहत चाहिए है

नहीं होती है राह-ए-इश्क़ में आसान मंज़िल

सफ़र में भी तो सदियों की मसाफ़त चाहिए है

मेरा हर ख़्वाब तो बस ख़्वाब ही जैसा निकला

क्या किसी ख़्वाब की ताबीर भी हो सकती है

ई-पुस्तक 1

Sare Khwab Uske Hain

 

2010

 

"न्यूयॉर्क" के और शायर

  • यासमीन सहर यासमीन सहर
  • अहमद इरफ़ान अहमद इरफ़ान
  • ख़्वाजा रियाज़ुद्दीन अतश ख़्वाजा रियाज़ुद्दीन अतश
  • पिन्हाँ पिन्हाँ
  • सूफ़िया अनजुम ताज सूफ़िया अनजुम ताज
  • सबा नुसरत सबा नुसरत
  • सरवर आलम राज़ सरवर आलम राज़
  • रज़िया फ़सीह अहमद रज़िया फ़सीह अहमद
  • फ़रह इक़बाल फ़रह इक़बाल
  • रेहाना क़मर रेहाना क़मर