noImage

इबरत मछलीशहरी

जौनपुर, भारत

इबरत मछलीशहरी

ग़ज़ल 4

 

अशआर 7

जब जाती है दुनिया घूम फिर कर अपने मरकज़ पर

तो वापस लौट कर गुज़रे ज़माने क्यूँ नहीं आते

  • शेयर कीजिए

क्यूँ पशेमाँ हो अगर वअ'दा वफ़ा हो सका

कहीं वादे भी निभाने के लिए होते हैं

  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी कम पढ़े परदेसी का ख़त है 'इबरत'

ये किसी तरह पढ़ा जाए समझा जाए

  • शेयर कीजिए

अपनी ग़ुर्बत की कहानी हम सुनाएँ किस तरह

रात फिर बच्चा हमारा रोते रोते सो गया

  • शेयर कीजिए

ज़मीं के जिस्म को टुकड़ों में बाँटने वालो

कभी ये ग़ौर करो काएनात किस की है

  • शेयर कीजिए

चित्र शायरी 1

 

"जौनपुर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

speakNow