noImage

मीर मोहम्मदी बेदार

1732 - 1796

मीर मोहम्मदी बेदार

ग़ज़ल 95

शेर 45

आह क़ासिद तो अब तलक फिरा

दिल धड़कता है क्या हुआ होगा

हैं तसव्वुर में उस के आँखें बंद

लोग जानें हैं ख़्वाब करता हूँ

  • शेयर कीजिए

बाप का है फ़ख़्र वो बेटा कि रखता हो कमाल

देख आईने को फ़रज़ंद-ए-रशीद-ए-संग है

हम पे सौ ज़ुल्म-ओ-सितम कीजिएगा

एक मिलने को कम कीजिएगा

ख़ुशी है सब को रोज़-ए-ईद की याँ

हुए हैं मिल के बाहम आश्ना ख़ुश

पुस्तकें 2

Deewan-e-Bedar

 

1937

Deewan-e-Bedar

 

1935