noImage

मिर्ज़ा अज़फ़री

ग़ज़ल 33

शेर 26

हम फ़रामोश की फ़रामोशी

और तुम याद उम्र भर भूले

हम गुनहगारों के क्या ख़ून का फीका था रंग

मेहंदी किस वास्ते हाथों पे रचाई प्यारे

  • शेयर कीजिए

कौन कहता है कि तू ने हमें हट कर मारा

दिल झपट आँख लड़ा नज़रों से डट कर मारा

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

दीवान-ए-अज़फ़री

 

1939

वाक़िआत-ए-अज़फ़री

 

1937

Waqiyat-e-Azfari

 

1957