noImage

मिर्ज़ा अज़फ़री

मिर्ज़ा अज़फ़री

ग़ज़ल 33

शेर 26

हम गुनहगारों के क्या ख़ून का फीका था रंग

मेहंदी किस वास्ते हाथों पे रचाई प्यारे

  • शेयर कीजिए

हम फ़रामोश की फ़रामोशी

और तुम याद उम्र भर भूले

तेरे मिज़्गाँ की क्या करूँ तारीफ़

तीर ये बे-कमान जाता है

कौन कहता है कि तू ने हमें हट कर मारा

दिल झपट आँख लड़ा नज़रों से डट कर मारा

  • शेयर कीजिए

ये दीवाने हैं महव-ए-दीद दिलबर

नहीं कुछ मानते याँ को वाँ को

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Deewan-e-Azfari

 

1939

Waqiyat-e-Azfari

 

1957

वाक़िआत-ए-अज़फ़री

 

1937