Mustafa Shahab's Photo'

मुस्तफ़ा शहाब

इंग्लैंड

ग़ज़ल 21

शेर 21

ज़ेहन में याद के घर टूटने लगते हैं 'शहाब'

लोग हो जाते हैं जी जी के पुराने कितने

  • शेयर कीजिए

ऐसा भी कभी हो मैं जिसे ख़्वाब में देखूँ

जागूँ तो वही ख़्वाब की ताबीर बताए

  • शेयर कीजिए

शायद वो भूली-बिसरी हो आरज़ू कोई

कुछ और भी कमी सी है तेरी कमी के साथ

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 4

आंधी सर-ए-शाम

 

2003

Kaghaz Ki Kashtiyan

 

2012

सफ़र अामादा

 

1999

शाम ढले सवेरा

 

1996

 

Added to your favorites

Removed from your favorites