Qalaq Merathi's Photo'

क़लक़ मेरठी

1832/3 - 1880

ग़ज़ल 41

शेर 51

हो मोहब्बत की ख़बर कुछ तो ख़बर फिर क्यूँ हो

ये भी इक बे-ख़बरी है कि ख़बर रखते हैं

  • शेयर कीजिए

तू है हरजाई तो अपना भी यही तौर सही

तू नहीं और सही और नहीं और सही

  • शेयर कीजिए

ये है वो है मैं हूँ तू है

हज़ारों तसव्वुर और इक आरज़ू है

  • शेयर कीजिए

रुबाई 69

पुस्तकें 8

दीवान-ए-क़लक़

 

1883

Gulistan-e-Bazak Khayal

Kulliyat-e-Urdu-e-Qalaq

1883

Gulistan-e-Nazuk Khayali

Kulliyat Urdu-e-Qalq

1883

Jawahir-e-Manzoom

 

1867

कुल्लियात-ए-क़लक़

 

1966

Kulliyat-e-Urdu-e-Qalaq

 

1847

Nazm-e-Jadeed Ki Taslees

 

2005

Qalaq Merathi Hayaat Aur Karnaame

 

1992