Quaiser Khalid's Photo'

क़ैसर ख़ालिद

1971 | मुंबई, भारत

ग़ज़ल 21

शेर 10

मीठी बातें, कभी तल्ख़ लहजे के तीर

दिल पे हर दिन है उन का करम भी नया

हो पाए किसी के हम भी कहाँ यूँ कोई हमारा भी हुआ

कब ठहरी किसी इक पर भी नज़र क्या चीज़ है शहर-ए-ख़ूबाँ भी

डाल दी पैरों में उस शख़्स के ज़ंजीर यहाँ

वक़्त ने जिस को ज़माने में उछलते देखा

बातों से फूल झड़ते थे लेकिन ख़बर थी

इक दिन लबों से उन के ही नश्तर भी आएँगे

अब इस तरह भी रिवायत से इंहिराफ़ कर

बदल अगरचे तू अच्छा दे, ख़राब तो दे

पुस्तकें 3

Deewan-e-Shad Azimabadi

 

2005

शऊर-ए-असर

 

2015

शुऊर-ए-अस्र

 

2014

 

"मुंबई" के और शायर

  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी
  • शकील बदायुनी शकील बदायुनी
  • अख़्तरुल ईमान अख़्तरुल ईमान
  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर
  • राजेश रेड्डी राजेश रेड्डी
  • फ़ुज़ैल जाफ़री फ़ुज़ैल जाफ़री
  • जावेद अख़्तर जावेद अख़्तर
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर
  • क़मर सिद्दीक़ी क़मर सिद्दीक़ी
  • अब्दुल अहद साज़ अब्दुल अहद साज़