पसंदीदा विडियो

इस विडियो को शेयर कीजिए

आज के टॉप 5

दिल आबाद कहाँ रह पाए उस की याद भुला देने से

कमरा वीराँ हो जाता है इक तस्वीर हटा देने से

जलील ’आली’

अपनी अना की आज भी तस्कीन हम ने की

जी भर के उस के हुस्न की तौहीन हम ने की

इक़बाल साजिद

हम से कोई तअल्लुक़-ए-ख़ातिर तो है उसे

वो यार बा-वफ़ा सही बेवफ़ा तो है

जमील मलिक

तसद्दुक़ इस करम के मैं कभी तन्हा नहीं रहता

कि जिस दिन तुम नहीं आते तुम्हारी याद आती है

जलील मानिकपूरी
  • शेयर कीजिए

'शाद' ग़ैर-मुमकिन है शिकवा-ए-बुताँ मुझ से

मैं ने जिस से उल्फ़त की उस को बा-वफ़ा पाया

शाद आरफ़ी
आर्काइव
आज का शब्द

मसीहा

  • masiihaa
  • مسیحا

शब्दार्थ

Messiah/ Physician/ Healer

बे-दम हुए बीमार दवा क्यूँ नहीं देते

तुम अच्छे मसीहा हो शिफ़ा क्यूँ नहीं देते

शब्द शेयर कीजिए

आर्काइव

आज की प्रस्तुति

पाकिस्तान की सबसे लोकप्रिय शायरात में शामिल। स्त्रियों की भावनओं को आवाज़ देने के लिए मशहूर

बख़्त से कोई शिकायत है अफ़्लाक से है

यही क्या कम है कि निस्बत मुझे इस ख़ाक से है

पूर्ण ग़ज़ल देखें

परवीन शाकिर के बारे में शेयर कीजिए

ई-पुस्तकालय

उर्दू साहित्य का सबसे बड़ा ऑनलाइन संग्रह

रुस्तम-ओ-सोहराब

आग़ा हश्र काश्मीरी 

1962

सन्नाटा

अहमद नदीम क़ासमी 

1991 अफ़साना

शुमारा नम्बर-275

अक़ीला शाहीन 

2003 शब ख़ून

इंतिख़ाब-ए-सौदा

मोहम्मद रफ़ी सौदा 

2004 संकलन

जदीद ईरानी अफ़साने

सईद नफ़ीसी 

2000 कहानी

ई-पुस्तकालय

नया क्या है

200+

ग़ज़ल

अभी पढ़िए

300+

नज़्म

अभी पढ़िए

3550+

ई-पुस्तक

अभी पढ़िए

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Rekhta

Favroite added successfully

Favroite removed successfully