Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

असद अली ख़ान क़लक़

1820 - 1879 | लखनऊ, भारत

अवध के आख़िरी नवाब वाजिद अली शाह के प्रमुख दरबारी और आफ़ताबुद्दौला शम्स-ए-जंग के ख़िताब से सम्मानित शायर

अवध के आख़िरी नवाब वाजिद अली शाह के प्रमुख दरबारी और आफ़ताबुद्दौला शम्स-ए-जंग के ख़िताब से सम्मानित शायर

असद अली ख़ान क़लक़ के शेर

3.9K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अदा से देख लो जाता रहे गिला दिल का

बस इक निगाह पे ठहरा है फ़ैसला दिल का

अपने बेगाने से अब मुझ को शिकायत रही

दुश्मनी कर के मिरे दोस्त ने मारा मुझ को

बे-ख़ुदी-ए-दिल मुझे ये भी ख़बर नहीं

किस दिन बहार आई मैं दीवाना कब हुआ

आख़िर इंसान हूँ पत्थर का तो रखता नहीं दिल

बुतो इतना सताओ ख़ुदा-रा मुझ को

दस्त-ए-जुनूँ ने फाड़ के फेंका इधर-उधर

दामन अबद में है तो गरेबाँ अज़ल में है

फिर मुझ से इस तरह की कीजेगा दिल-लगी

ख़ैर इस घड़ी तो आप का मैं कर गया लिहाज़

होंठों में दाब कर जो गिलौरी दी यार ने

क्या दाँत पीसे ग़ैरों ने क्या क्या चबाए होंठ

आसार-ए-रिहाई हैं ये दिल बोल रहा है

सय्याद सितमगर मिरे पर खोल रहा है

ख़फ़ा हो गालियाँ दो चाहे आने दो आने दो

मैं बोसे लूँगा सोते में मुझे लपका है चोरी का

ज़मीन पाँव के नीचे से सरकी जाती है

हमें छेड़िए हम हैं फ़लक सताए हुए

रस्ते में उन को छेड़ के खाते हैं गालियाँ

बाज़ार की मिठाई भी होती है क्या लज़ीज़

करेंगे हम से वो क्यूँकर निबाह देखते हैं

हम उन की थोड़े दिनों और चाह देखते हैं

करो तुम मुझ से बातें और मैं बातें करूँ तुम से

कलीम-उल्लाह हो जाऊँ मैं एजाज़-ए-तकल्लुम से

यही इंसाफ़ तिरे अहद में है शह-ए-हुस्न

वाजिब-उल-क़त्ल मोहब्बत के गुनहगार हैं सब

ख़ुदा-हाफ़िज़ है अब ज़ाहिदो इस्लाम-ए-आशिक़ का

बुतान-ए-दहर ग़ालिब गए हैं का'बा-ओ-दिल पर

बना कर तिल रुख़-ए-रौशन पर दो शोख़ी से से कहते हैं

ये काजल हम ने यारा है चराग़-ए-माह-ए-ताबाँ पर

चला है छोड़ के तन्हा किधर तसव्वुर-ए-यार

शब-ए-फ़िराक़ में था तुझ से मश्ग़ला दिल का

उम्र तो अपनी हुई सब बुत-परस्ती में बसर

नाम को दुनिया में हैं अब साहब-ए-इस्लाम हम

सितम वो तुम ने किए भूले हम गिला दिल का

हुआ तुम्हारे बिगड़ने से फ़ैसला दिल का

हिम्मत का ज़ाहिदों की सरासर क़ुसूर था

मय-ख़ाना ख़ानक़ाह से ऐसा दूर था

याद दिलवाइए उन को जो कभी वादा-ए-वस्ल

तो वो किस नाज़ से फ़रमाते हैं हम भूल गए

परी-ज़ाद जो तू रक़्स करे मस्ती में

दाना-ए-ताक हर इक पाँव में घुंघरू हो जाए

वो एक रात तो मुझ से अलग सोएगा

हुआ जो लज़्ज़त-ए-बोस-ओ-कनार से वाक़िफ़

रुख़ तह-ए-ज़ुल्फ़ है और ज़ुल्फ़ परेशाँ सर पर

माँग बालों में नहीं है ये नुमायाँ सर पर

सिंदूर उस की माँग में देता है यूँ बहार

जैसे धनक निकलती है अब्र-ए-सियाह में

मंज़िल है अपनी अपनी 'क़लक़' अपनी अपनी गोर

कोई नहीं शरीक किसी के गुनाह में

क्या कोई दिल लगा के कहे शे'र 'क़लक़'

नाक़द्री-ए-सुख़न से हैं अहल-ए-सुख़न उदास

यार की फ़र्त-ए-नज़ाकत का हूँ मैं शुक्र-गुज़ार

ध्यान भी उस का मिरे दिल से निकलने दिया

वो रिंद हूँ कि मुझे हथकड़ी से बैअत है

मिला है गेसू-ए-जानाँ से सिलसिला दिल का

मैं वो मय-कश हूँ मिली है मुझ को घुट्टी में शराब

शीर के बदले पिया है मैं ने शीरा ताक का

खुलने से एक जिस्म के सौ ऐब ढक गए

उर्याँ-तनी भी जोश-ए-जुनूँ में लिबास है

घाट पर तलवार के नहलाईयो मय्यत मिरी

कुश्ता-ए-अबरू हूँ मैं क्या ग़ुस्ल-ख़ाना चाहिए

ख़त में लिक्खी है हक़ीक़त दश्त-गर्दी की अगर

नामा-बर जंगली कबूतर को बनाना चाहिए

आलम-ए-पीरी में क्या मू-ए-सियह का ए'तिबार

सुब्ह-ए-सादिक़ देती है झूटी गवाही रात की

नया मज़मून लाना काटना कोह-ओ-जबल का है

नहीं हम शेर कहते पेशा-ए-फ़र्हाद कहते हैं

बहार आते ही ज़ख़्म-ए-दिल हरे सब हो गए मेरे

उधर चटका कोई ग़ुंचा इधर टूटा हर इक टाँका

मुझ से उन आँखों को वहशत है मगर मुझ को है इश्क़

खेला करता हूँ शिकार आहु-ए-सहराई का

हुआ मैं रिंद-मशरब ख़ाक मर कर इस तमन्ना में

नमाज़ आख़िर पढ़ेंगे वो किसी दिन तो तयम्मुम से

जब हुआ गर्म-ए-कलाम-ए-मुख़्तसर महका दिया

इत्र खींचा यार के लब ने गुल-ए-तक़रीर का

पूछा सबा से उस ने पता कू-ए-यार का

देखो ज़रा शुऊ'र हमारे ग़ुबार का

कुफ्र-ओ-इस्लाम के झगड़ों से छुड़ाया सद-शुक्र

क़ैद-ए-मज़हब से जुनूँ ने मुझे आज़ाद किया

उन वाइ'ज़ों की ज़िद से हम अब की बहार में

तोड़ेंगे तौबा पीर-ए-मुग़ाँ की दुकान पर

छेड़ा अगर मिरे दिल-ए-नालाँ को आप ने

फिर भूल जाइएगा बजाना सितार का

तिरे होंठों से शर्मा कर पसीने में हुआ ये तर

ख़िज़र ने ख़ुद अरक़ पोंछा जबीन-ए-आब-ए-हैवाँ का

मिसाल-ए-आइना हम जब से हैरती हैं तिरे

कि जिन दिनों में था तू सिंगार से वाक़िफ़

दिल ख़स्ता हो तो लुत्फ़ उठे कुछ अपनी ग़ज़ल का

मतलब कोई क्या समझेगा मस्तों की ज़टल का

मय जो दी ग़ैर को साक़ी ने कराहत देखो

शीशा-ए-मय को मरज़ हो गया उबकाई का

ख़ुश-क़दों से कभी आलम रहेगा ख़ाली

इस चमन से जो गया सर्व तो शमशाद आया

मुदल्लल जो सुख़न अपना है वो बुर्हान-ए-क़ातेअ' है

तबीअत में रवानी है ज़ियादा हफ़्त-क़ुल्ज़ुम से

जमे क्या पाँव मेरे ख़ाना-ए-दिल में क़नाअ'त का

जिगर में चुटकियाँ लेता है नाख़ुन दस्त-ए-हाजत का

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए