Sauda Mohammad Rafi's Photo'

मोहम्मद रफ़ी सौदा

1713 - 1781 | दिल्ली, भारत

18वी सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

18वी सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

5.8K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जब यार ने उठा कर ज़ुल्फ़ों के बाल बाँधे

तब मैं ने अपने दिल में लाखों ख़याल बाँधे

कैफ़िय्यत-ए-चश्म उस की मुझे याद है 'सौदा'

साग़र को मिरे हाथ से लीजो कि चला मैं

कर 'सौदा' तू शिकवा हम से दिल की बे-क़रारी का

मोहब्बत किस को देती है मियाँ आराम दुनिया में

फ़िक्र-ए-मआश इश्क़-ए-बुताँ याद-ए-रफ़्तगाँ

इस ज़िंदगी में अब कोई क्या क्या किया करे

गिला लिखूँ मैं अगर तेरी बेवफ़ाई का

लहू में ग़र्क़ सफ़ीना हो आश्नाई का

'सौदा' जो बे-ख़बर है वही याँ करे है ऐश

मुश्किल बहुत है उन को जो रखते हैं आगही

साक़ी गई बहार रही दिल में ये हवस

तू मिन्नतों से जाम दे और मैं कहूँ कि बस

you plead with me to take a drink and I say no more

जिस रोज़ किसी और पे बेदाद करोगे

ये याद रहे हम को बहुत याद करोगे

तिरा ख़त आने से दिल को मेरे आराम क्या होगा

ख़ुदा जाने कि इस आग़ाज़ का अंजाम क्या होगा

कौन किसी का ग़म खाता है

कहने को ग़म-ख़्वार है दुनिया

समझे थे हम जो दोस्त तुझे मियाँ ग़लत

तेरा नहीं है जुर्म हमारा गुमाँ ग़लत

'सौदा' हुए जब आशिक़ क्या पास आबरू का

सुनता है दिवाने जब दिल दिया तो फिर क्या

मैं ने तुम को दिल दिया और तुम ने मुझे रुस्वा किया

मैं ने तुम से क्या किया और तुम ने मुझ से क्या किया

'सौदा' ख़ुदा के वास्ते कर क़िस्सा मुख़्तसर

अपनी तो नींद उड़ गई तेरे फ़साने में

जिया तेरी चश्म का मारा

तिरी ज़ुल्फ़ का बँधा छूटा

ये तो नहीं कहता हूँ कि सच-मुच करो इंसाफ़

झूटी भी तसल्ली हो तो जीता ही रहूँ मैं

'सौदा' तू इस ग़ज़ल को ग़ज़ल-दर-ग़ज़ल ही कह

होना है तुझ को 'मीर' से उस्ताद की तरफ़

वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं

अब देखने को जिन के आँखें तरसतियाँ हैं

इश्क़ से तो नहीं हूँ मैं वाक़िफ़

दिल को शोला सा कुछ लिपटता है

गर तुझ में है वफ़ा तो जफ़ाकार कौन है

दिल-दार तू हुआ तो दिल-आज़ार कौन है

'सौदा' जहाँ में के कोई कुछ ले गया

जाता हूँ एक मैं दिल-ए-पुर-आरज़ू लिए

अकेला हो रह-ए-दुनिया में गिर चाहे बहुत जीना

हुई है फ़ैज़-ए-तन्हाई से उम्र-ए-ख़िज़्र तूलानी

कहियो सबा सलाम हमारा बहार से

हम तो चमन को छोड़ के सू-ए-क़फ़स चले

अम्मामे को उतार के पढ़ीयो नमाज़ शैख़

सज्दे से वर्ना सर को उठाया जाएगा

दिल मत टपक नज़र से कि पाया जाएगा

जूँ अश्क फिर ज़मीं से उठाया जाएगा

ग़रज़ कुफ़्र से कुछ दीं से है मतलब

तमाशा-ए-दैर-ओ-हरम देखते हैं

दिल के टुकड़ों को बग़ल-गीर लिए फिरता हूँ

कुछ इलाज इस का भी शीशा-गिराँ है कि नहीं

गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी

ख़ाना-बर-अंदाज़-ए-चमन कुछ तो इधर भी

क्या ज़िद है मिरे साथ ख़ुदा जाने वगरना

काफ़ी है तसल्ली को मिरी एक नज़र भी

यारो वो शर्म से जो बोला तो क्या हुआ

आँखों में सौ तरह की हिकायात हो गई

दिखाऊँगा तुझे ज़ाहिद उस आफ़त-ए-दीं को

ख़लल दिमाग़ में तेरे है पारसाई का

गर हो शराब ख़ल्वत महबूब-ए-ख़ूब-रू

ज़ाहिद क़सम है तुझ को जो तू हो तो क्या करे

हर संग में शरार है तेरे ज़ुहूर का

मूसा नहीं जो सैर करूँ कोह तूर का

बदला तिरे सितम का कोई तुझ से क्या करे

अपना ही तू फ़रेफ़्ता होवे ख़ुदा करे

अबस तू घर बसाता है मिरी आँखों में प्यारे

किसी ने आज तक देखा भी है पानी पे घर ठहरा

'सौदा' जो तिरा हाल है इतना तो नहीं वो

क्या जानिए तू ने उसे किस आन में देखा

हर आन मुझी को सताते हो नासेहो

समझा के तुम उसे भी तो यक-बार कुछ कहो

फ़िराक़-ए-ख़ुल्द से गंदुम है सीना-चाक अब तक

इलाही हो वतन से कोई ग़रीब जुदा

मत पूछ ये कि रात कटी क्यूँके तुझ बग़ैर

इस गुफ़्तुगू से फ़ाएदा प्यारे गुज़र गई

बादशाहत दो जहाँ की भी जो होवे मुझ को

तेरे कूचे की गदाई से खो दे मुझ को

है मुद्दतों से ख़ाना-ए-ज़ंजीर बे-सदा

मालूम ही नहीं कि दिवाने किधर गए

क्या करूँगा ले के वाइज़ हाथ से हूरों के जाम

हूँ मैं साग़र-कश किसी के साग़र-ए-मख़मूर का

किस मुँह से फिर तू आप को कहता है इश्क़-बाज़

रू-सियाह तुझ से तो ये भी हो सका

ये रंजिश में हम को है बे-इख़्तियारी

तुझे तेरी खा कर क़सम देखते हैं

बे-सबाती ज़माने की नाचार

करनी मुझ को बयान पड़ती है

कहते थे हम देख सकें रोज़-ए-हिज्र को

पर जो ख़ुदा दिखाए सो नाचार देखना

ज़ाहिद सभी हैं नेमत-ए-हक़ जो है अक्ल-ओ-शर्ब

लेकिन अजब मज़ा है शराब कबाब का

नहीं है घर कोई ऐसा जहाँ उस को देखा हो

कनहय्या से नहीं कुछ कम सनम मेरा वो हरजाई

'सौदा' की जो बालीं पे गया शोर-ए-क़यामत

ख़ुद्दाम-ए-अदब बोले अभी आँख लगी है

मौज-ए-नसीम आज है आलूदा गर्द से

दिल ख़ाक हो गया है किसी बे-क़रार का