417
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

भूक से या वबा से मरना है

फ़ैसला आदमी को करना है

शाम को तेरा हँस कर मिलना

दिन भर की उजरत होती है

लड़कियाँ माओं जैसे मुक़द्दर क्यूँ रखती हैं

तन सहरा और आँख समुंदर क्यूँ रखती हैं

अकेले घर में भरी दोपहर का सन्नाटा

वही सुकून वही उम्र भर का सन्नाटा

कच्ची उम्रों में भी अकेली रही

मैं सदा अपनी ही सहेली रही

तेरा नाम लिखती हैं उँगलियाँ ख़लाओं में

ये भी इक दुआ होगी वस्ल की दुआओं में

वो जिस ने अश्कों से हार नहीं मानी

किस ख़ामोशी से दरिया में डूब गई

ख़्वाहिशें दिल में मचल कर यूँही सो जाती हैं

जैसे अँगनाई में रोता हुआ बच्चा कोई

या मुझे तेरी हथेली बूझे

या कोई शोख़ सहेली बूझे

वो ज़ख़्म चुन के मिरे ख़ार मुझ में छोड़ गया

कि उस को शौक़ था बे-इंतिहा गुलाबों का

ये और बात कि कम-हौसला तो मैं भी थी

मगर ये सच है उसे पहले मैं ने चाहा था

अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है

पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

आओ ज़रा सी देर को हम हँस-बोल ही लें

तुम को नहीं मंज़ूर है अच्छा रहने दो