Haidar Ali Aatish's Photo'

हैदर अली आतिश

1778 - 1847 | लखनऊ, भारत

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन, 19वीं सदी की उर्दू ग़ज़ल का रौशन सितारा।

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन, 19वीं सदी की उर्दू ग़ज़ल का रौशन सितारा।

बुत-ख़ाना तोड़ डालिए मस्जिद को ढाइए

दिल को तोड़िए ये ख़ुदा का मक़ाम है

पाक होगा कभी हुस्न इश्क़ का झगड़ा

वो क़िस्सा है ये कि जिस का कोई गवाह नहीं

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

कहती है तुझ को ख़ल्क़-ए-ख़ुदा ग़ाएबाना क्या

बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का

जो चीरा तो इक क़तरा-ए-ख़ूँ निकला

फ़स्ल-ए-बहार आई पियो सूफ़ियो शराब

बस हो चुकी नमाज़ मुसल्ला उठाइए

जो आला-ज़र्फ़ होते हैं हमेशा झुक के मिलते हैं

सुराही सर-निगूँ हो कर भरा करती है पैमाना

दोस्तों से इस क़दर सदमे उठाए जान पर

दिल से दुश्मन की अदावत का गिला जाता रहा

गोर-ए-सिकंदर है क़ब्र-ए-दारा

मिटे नामियों के निशाँ कैसे कैसे

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

हम और बुलबुल-ए-बेताब गुफ़्तुगू करते

रख के मुँह सो गए हम आतिशीं रुख़्सारों पर

दिल को था चैन तो नींद गई अँगारों पर

लगे मुँह भी चिढ़ाने देते देते गालियाँ साहब

ज़बाँ बिगड़ी तो बिगड़ी थी ख़बर लीजे दहन बिगड़ा

आए भी लोग बैठे भी उठ भी खड़े हुए

मैं जा ही ढूँडता तिरी महफ़िल में रह गया

in your presence others were seated with charm and grace

whilst I remained unheeded, for me there was no place

in your presence others were seated with charm and grace

whilst I remained unheeded, for me there was no place

पूछ हाल मिरा चोब-ए-ख़ुश्क-ए-सहरा हूँ

लगा के आग मुझे कारवाँ रवाना हुआ

यार को मैं ने मुझे यार ने सोने दिया

रात भर ताला'-ए-बेदार ने सोने दिया

बंदिश-ए-अल्फ़ाज़ जड़ने से निगूँ के कम नहीं

शाएरी भी काम है 'आतिश' मुरस्सा-साज़ का

हर शब शब-ए-बरात है हर रोज़ रोज़-ए-ईद

सोता हूँ हाथ गर्दन-ए-मीना में डाल के

each night is a night of love, each day a day divine

I sleep with my arms entwined around a flask of wine

each night is a night of love, each day a day divine

I sleep with my arms entwined around a flask of wine

सफ़र है शर्त मुसाफ़िर-नवाज़ बहुतेरे

हज़ार-हा शजर-ए-साया-दार राह में है

आफ़त-ए-जाँ हुई उस रू-ए-किताबी की याद

रास आया मुझे हाफ़िज़-ए-क़ुरआँ होना

क़ैद-ए-मज़हब की गिरफ़्तारी से छुट जाता है

हो दीवाना तो है अक़्ल से इंसाँ ख़ाली

पयाम-बर मयस्सर हुआ तो ख़ूब हुआ

ज़बान-ए-ग़ैर से क्या शरह-ए-आरज़ू करते