aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Josh Malihabadi's Photo'

जोश मलीहाबादी

1898 - 1982 | इस्लामाबाद, पाकिस्तान

सबसे गर्म मिज़ाज प्रगतिशील शायर जिन्हें शायर-ए-इंकि़लाब (क्रांति-कवि) कहा जाता है

सबसे गर्म मिज़ाज प्रगतिशील शायर जिन्हें शायर-ए-इंकि़लाब (क्रांति-कवि) कहा जाता है

जोश मलीहाबादी के शेर

32K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने दिया

जब चली सर्द हवा मैं ने तुझे याद किया

हद है अपनी तरफ़ नहीं मैं भी

और उन की तरफ़ ख़ुदाई है

मेरे रोने का जिस में क़िस्सा है

उम्र का बेहतरीन हिस्सा है

एक दिन कह लीजिए जो कुछ है दिल में आप के

एक दिन सुन लीजिए जो कुछ हमारे दिल में है

मुझ को तो होश नहीं तुम को ख़बर हो शायद

लोग कहते हैं कि तुम ने मुझे बर्बाद किया

तबस्सुम की सज़ा कितनी कड़ी है

गुलों को खिल के मुरझाना पड़ा है

किसी का अहद-ए-जवानी में पारसा होना

क़सम ख़ुदा की ये तौहीन है जवानी की

सिर्फ़ इतने के लिए आँखें हमें बख़्शी गईं

देखिए दुनिया के मंज़र और ब-इबरत देखिए

कश्ती-ए-मय को हुक्म-ए-रवानी भी भेज दो

जब आग भेज दी है तो पानी भी भेज दो

उस ने वा'दा किया है आने का

रंग देखो ग़रीब ख़ाने का

इंसान के लहू को पियो इज़्न-ए-आम है

अंगूर की शराब का पीना हराम है

वहाँ से है मिरी हिम्मत की इब्तिदा वल्लाह

जो इंतिहा है तिरे सब्र आज़माने की

काम है मेरा तग़य्युर नाम है मेरा शबाब

मेरा ना'रा इंक़िलाब इंक़िलाब इंक़िलाब

सुबूत है ये मोहब्बत की सादा-लौही का

जब उस ने वादा किया हम ने ए'तिबार किया

आड़े आया कोई मुश्किल में

मशवरे दे के हट गए अहबाब

इस दिल में तिरे हुस्न की वो जल्वागरी है

जो देखे है कहता है कि शीशे में परी है

इस का रोना नहीं क्यूँ तुम ने किया दिल बर्बाद

इस का ग़म है कि बहुत देर में बर्बाद किया

आप से हम को रंज ही कैसा

मुस्कुरा दीजिए सफ़ाई से

वो करें भी तो किन अल्फ़ाज़ में तेरा शिकवा

जिन को तेरी निगह-ए-लुत्फ़ ने बर्बाद किया

हम ऐसे अहल-ए-नज़र को सुबूत-ए-हक़ के लिए

अगर रसूल होते तो सुब्ह काफ़ी थी

सोज़-ए-ग़म दे के मुझे उस ने ये इरशाद किया

जा तुझे कशमकश-ए-दहर से आज़ाद किया

अब तक ख़बर थी मुझे उजड़े हुए घर की

वो आए तो घर बे-सर-ओ-सामाँ नज़र आया

कोई आया तिरी झलक देखी

कोई बोला सुनी तिरी आवाज़

हम गए थे उस से करने शिकवा-ए-दर्द-ए-फ़िराक़

मुस्कुरा कर उस ने देखा सब गिला जाता रहा

इतना मानूस हूँ फ़ितरत से कली जब चटकी

झुक के मैं ने ये कहा मुझ से कुछ इरशाद किया?

हाँ आसमान अपनी बुलंदी से होशियार

अब सर उठा रहे हैं किसी आस्ताँ से हम

जितने गदा-नवाज़ थे कब के गुज़र चुके

अब क्यूँ बिछाए बैठे हैं हम बोरिया पूछ

गुज़र रहा है इधर से तो मुस्कुराता जा

चराग़-ए-मज्लिस-ए-रुहानियाँ जलाता जा

इक इक ज़ुल्मत से जब वाबस्ता रहना है तो 'जोश'

ज़िंदगी पर साया-ए-ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ क्यूँ हो

हर एक काँटे पे सुर्ख़ किरनें हर इक कली में चराग़ रौशन

ख़याल में मुस्कुराने वाले तिरा तबस्सुम कहाँ नहीं है

मिला जो मौक़ा तो रोक दूँगा 'जलाल' रोज़-ए-हिसाब तेरा

पढूँगा रहमत का वो क़सीदा कि हँस पड़ेगा अज़ाब तेरा

बादबाँ नाज़ से लहरा के चली बाद-ए-मुराद

कारवाँ ईद मना क़ाफ़िला-सालार आया

इधर तेरी मशिय्यत है उधर हिकमत रसूलों की

इलाही आदमी के बाब में क्या हुक्म होता है

पहचान गया सैलाब है उस के सीने में अरमानों का

देखा जो सफ़ीने को मेरे जी छूट गया तूफ़ानों का

अब ख़ुदा इनायत-ए-बेजा से फ़ाएदा

मानूस हो चुके हैं ग़म-ए-जावेदाँ से हम

अल्लाह रे हुस्न-ए-दोस्त की आईना-दारियाँ

अहल-ए-नज़र को नक़्श-ब-दीवार कर दिया

अब दिल का सफ़ीना क्या उभरे तूफ़ाँ की हवाएँ साकिन हैं

अब बहर से कश्ती क्या खेले मौजों में कोई गिर्दाब नहीं

बिगाड़ कर बनाए जा उभार कर मिटाए जा

कि मैं तिरा चराग़ हूँ जलाए जा बुझाए जा

ज़रा आहिस्ता ले चल कारवान-ए-कैफ़-ओ-मस्ती को

कि सत्ह-ए-ज़ेहन-ए-आलम सख़्त ना-हमवार है साक़ी

दुनिया ने फ़सानों को बख़्शी अफ़्सुर्दा हक़ाएक़ की तल्ख़ी

और हम ने हक़ाएक़ के नक़्शे में रंग भरा अफ़्सानों का

महफ़िल-ए-इश्क़ में वो नाज़िश-ए-दौराँ आया

गदा ख़्वाब से बेदार कि सुल्ताँ आया

मिले जो वक़्त तो रह-रव-ए-रह-ए-इक्सीर

हक़ीर ख़ाक से भी साज़-बाज़ करता जा

शबाब-ए-रफ़्ता के क़दम की चाप सुन रहा हूँ मैं

नदीम अहद-ए-शौक़ की सुनाए जा कहानियाँ

नक़्श-ए-ख़याल दिल से मिटाया नहीं हनूज़

बे-दर्द मैं ने तुझ को भुलाया नहीं हनूज़

फ़ुग़ाँ कि मुझ ग़रीब को हयात का ये हुक्म है

समझ हर एक राज़ को मगर फ़रेब खाए जा

हाँ कौन पूछता है ख़ुशी का नहुफ़्ता राज़

फिर ग़म का बार दिल पे उठाए हुए हैं हम

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए