ADVERTISEMENT

अब्र पर शेर

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए

इस के ब'अद आए जो अज़ाब आए

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

ये एक अब्र का टुकड़ा कहाँ कहाँ बरसे

तमाम दश्त ही प्यासा दिखाई देता है

शकेब जलाली

गुनगुनाती हुई आती हैं फ़लक से बूँदें

कोई बदली तिरी पाज़ेब से टकराई है

क़तील शिफ़ाई

गो बरसती नहीं सदा आँखें

अब्र तो बारा मास होता है

गुलज़ार
ADVERTISEMENT

अब्र बरसे तो इनायत उस की

शाख़ तो सिर्फ़ दुआ करती है

परवीन शाकिर

फ़लक पर उड़ते जाते बादलों को देखता हूँ मैं

हवा कहती है मुझ से ये तमाशा कैसा लगता है

अब्दुल हमीद

सब्ज़ा गुल कहाँ से आए हैं

अब्र क्या चीज़ है हवा क्या है

मिर्ज़ा ग़ालिब

बरसात का मज़ा तिरे गेसू दिखा गए

अक्स आसमान पर जो पड़ा अब्र छा गए

लाला माधव राम जौहर
ADVERTISEMENT

हम ने बरसात के मौसम में जो चाही तौबा

अब्र इस ज़ोर से गरजा कि इलाही तौबा

अज्ञात

या अब्र-ए-करम बन के बरस ख़ुश्क ज़मीं पर

या प्यास के सहरा में मुझे जीना सिखा दे

वज़ीर आग़ा

उट्ठा जो अब्र दिल की उमंगें चमक उठीं

लहराईं बिजलियाँ तो मैं लहरा के पी गया

एहसान दानिश

दुआएँ माँगी हैं साक़ी ने खोल कर ज़ुल्फ़ें

बसान-ए-दस्त-ए-करम अब्र-ए-दजला-बार बरस

अज़ीज़ लखनवी
ADVERTISEMENT

अब्र की तीरगी में हम को तो

सूझता कुछ नहीं सिवाए शराब

मीर मेहदी मजरूह