ADVERTISEMENT

दीवानगी पर शेर

इश्क़ में हासिल होने

वाली दीवानगी सबसे पाक दीवानगी है आप इस दीवानगी की थोड़ी बहुत मिक़दार से ज़रूर गुज़रें होंगे, लेकिन ये सब हमारे और आप के तजुर्बात हैं और यादें हैं। इन यादों और उन तजुर्बात को लफ़्ज़ों में मचलता और फड़कता हुआ देखने के लिए हमारे इस शेरी इंतिख़ाब को पढ़िए।

सब इक चराग़ के परवाने होना चाहते हैं

अजीब लोग हैं दीवाने होना चाहते हैं

असअ'द बदायुनी

चलो अच्छा हुआ काम गई दीवानगी अपनी

वगरना हम ज़माने भर को समझाने कहाँ जाते

क़तील शिफ़ाई

रोएँ अभी अहल-ए-नज़र हाल पे मेरे

होना है अभी मुझ को ख़राब और ज़ियादा

असरार-उल-हक़ मजाज़

पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की

नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

अल्लामा इक़बाल
ADVERTISEMENT

मुद्दतें हो गईं 'फ़राज़' मगर

वो जो दीवानगी कि थी है अभी

अहमद फ़राज़

हम तिरे शौक़ में यूँ ख़ुद को गँवा बैठे हैं

जैसे बच्चे किसी त्यौहार में गुम हो जाएँ

अहमद फ़राज़

कभी ख़िरद कभी दीवानगी ने लूट लिया

तरह तरह से हमें ज़िंदगी ने लूट लिया

हफ़ीज़ बनारसी

कभू रोना कभू हँसना कभू हैरान हो जाना

मोहब्बत क्या भले-चंगे को दीवाना बनाती है

ख़्वाजा मीर दर्द
ADVERTISEMENT

एक दीवाने को जो आए हैं समझाने कई

पहले मैं दीवाना था और अब हैं दीवाने कई

नज़ीर बनारसी

मैं गया हूँ वहाँ तक तिरी तमन्ना में

जहाँ से कोई भी इम्कान-ए-वापसी रहे

महमूद गज़नी

जुनूँ अब मंज़िलें तय कर रहा है

ख़िरद रस्ता दिखा कर रह गई है

अब्दुल हमीद अदम

तुम्हारी ज़ात से मंसूब है दीवानगी मेरी

तुम्हीं से अब मिरी दीवानगी देखी नहीं जाती

अज़ीज़ वारसी
ADVERTISEMENT

खुली मुझ पे भी दीवानगी मिरी बरसों

मिरे जुनून की शोहरत तिरे बयाँ से हुई

फ़राग़ रोहवी

नई मुश्किल कोई दरपेश हर मुश्किल से आगे है

सफ़र दीवानगी का इश्क़ की मंज़िल से आगे है

ख़ुशबीर सिंह शाद

ऐन दानाई है 'नासिख़' इश्क़ में दीवानगी

आप सौदाई हैं जो कहते हैं सौदाई मुझे

इमाम बख़्श नासिख़

दिल के मुआमले में मुझे दख़्ल कुछ नहीं

इस के मिज़ाज में जिधर आए उधर रहे

लाला माधव राम जौहर
ADVERTISEMENT

कर गई दीवानगी हम को बरी हर जुर्म से

चाक-दामानी से अपनी पाक-दामानी हुई

जलील मानिकपूरी