Shahryar's Photo'

शहरयार

1936 - 2012 | अलीगढ़, भारत

अग्रणी आधुनिक उर्दू शायरों में शामिल। फ़िल्म गीतकार , ' फ़िल्म उमराव जान ' , के गीतों के लिए प्रसिद्ध। भारतीय ज्ञान पीठ एवार्ड से सम्मानित

अग्रणी आधुनिक उर्दू शायरों में शामिल। फ़िल्म गीतकार , ' फ़िल्म उमराव जान ' , के गीतों के लिए प्रसिद्ध। भारतीय ज्ञान पीठ एवार्ड से सम्मानित

17.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

शदीद प्यास थी फिर भी छुआ पानी को

मैं देखता रहा दरिया तिरी रवानी को

सियाह रात नहीं लेती नाम ढलने का

यही तो वक़्त है सूरज तिरे निकलने का

जुस्तुजू जिस की थी उस को तो पाया हम ने

इस बहाने से मगर देख ली दुनिया हम ने

जहाँ में होने को दोस्त यूँ तो सब होगा

तिरे लबों पे मिरे लब हों ऐसा कब होगा

शाम होते ही खुली सड़कों की याद आती है

सोचता रोज़ हूँ मैं घर से नहीं निकलूँगा

जब भी मिलती है मुझे अजनबी लगती क्यूँ है

ज़िंदगी रोज़ नए रंग बदलती क्यूँ है

मिरे सूरज आ! मिरे जिस्म पे अपना साया कर

बड़ी तेज़ हवा है सर्दी आज ग़ज़ब की है

है कोई जो बताए शब के मुसाफ़िरों को

कितना सफ़र हुआ है कितना सफ़र रहा है

ये इक शजर कि जिस पे काँटा फूल है

साए में उस के बैठ के रोना फ़ुज़ूल है

इक सिर्फ़ हमीं मय को आँखों से पिलाते हैं

कहने को तो दुनिया में मय-ख़ाने हज़ारों हैं

है आज ये गिला कि अकेला है 'शहरयार'

तरसोगे कल हुजूम में तन्हाई के लिए

कौन सी बात है जो उस में नहीं

उस को देखे मिरी नज़र से कोई

शिकवा कोई दरिया की रवानी से नहीं है

रिश्ता ही मिरी प्यास का पानी से नहीं है

सीने में जलन आँखों में तूफ़ान सा क्यूँ है

इस शहर में हर शख़्स परेशान सा क्यूँ है

तेरे वादे को कभी झूट नहीं समझूँगा

आज की रात भी दरवाज़ा खुला रक्खूँगा

घर की तामीर तसव्वुर ही में हो सकती है

अपने नक़्शे के मुताबिक़ ये ज़मीं कुछ कम है

ये क्या जगह है दोस्तो ये कौन सा दयार है

हद्द-ए-निगाह तक जहाँ ग़ुबार ही ग़ुबार है

बिछड़े लोगों से मुलाक़ात कभी फिर होगी

दिल में उम्मीद तो काफ़ी है यक़ीं कुछ कम है

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यूँ है

अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें

अब रात की दीवार को ढाना है ज़रूरी

ये काम मगर मुझ से अकेले नहीं होगा

या तेरे अलावा भी किसी शय की तलब है

या अपनी मोहब्बत पे भरोसा नहीं हम को

जो होने वाला है अब उस की फ़िक्र क्या कीजे

जो हो चुका है उसी पर यक़ीं नहीं आता

पहले नहाई ओस में फिर आँसुओं में रात

यूँ बूँद बूँद उतरी हमारे घरों में रात

वो कौन था वो कहाँ का था क्या हुआ था उसे

सुना है आज कोई शख़्स मर गया यारो

क्या कोई नई बात नज़र आती है हम में

आईना हमें देख के हैरान सा क्यूँ है

ज़िंदगी जैसी तवक़्क़ो थी नहीं कुछ कम है

हर घड़ी होता है एहसास कहीं कुछ कम है

जो चाहती दुनिया है वो मुझ से नहीं होगा

समझौता कोई ख़्वाब के बदले नहीं होगा

जागता हूँ मैं एक अकेला दुनिया सोती है

कितनी वहशत हिज्र की लम्बी रात में होती है

इक बूँद ज़हर के लिए फैला रहे हो हाथ

देखो कभी ख़ुद अपने बदन को निचोड़ के

ये क्या है मोहब्बत में तो ऐसा नहीं होता

मैं तुझ से जुदा हो के भी तन्हा नहीं होता

बे-नाम से इक ख़ौफ़ से दिल क्यूँ है परेशाँ

जब तय है कि कुछ वक़्त से पहले नहीं होगा

आँख की ये एक हसरत थी कि बस पूरी हुई

आँसुओं में भीग जाने की हवस पूरी हुई

आँधियाँ आती थीं लेकिन कभी ऐसा हुआ

ख़ौफ़ के मारे जुदा शाख़ से पत्ता हुआ

अजीब सानेहा मुझ पर गुज़र गया यारो

मैं अपने साए से कल रात डर गया यारो

कहिए तो आसमाँ को ज़मीं पर उतार लाएँ

मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिए

नज़राना तेरे हुस्न को क्या दें कि अपने पास

ले दे के एक दिल है सो टूटा हुआ सा है

वक़्त को क्यूँ भला बुरा कहिए

तुझ को होना ही था जुदा हम से

जम्अ करते रहे जो अपने को ज़र्रा ज़र्रा

वो ये क्या जानें बिखरने में सुकूँ कितना है

सभी को ग़म है समुंदर के ख़ुश्क होने का

कि खेल ख़त्म हुआ कश्तियाँ डुबोने का

ऐसे हिज्र के मौसम कब कब आते हैं

तेरे अलावा याद हमें सब आते हैं

उम्र का लम्बा हिस्सा कर के दानाई के नाम

हम भी अब ये सोच रहे हैं पागल हो जाएँ

ये जब है कि इक ख़्वाब से रिश्ता है हमारा

दिन ढलते ही दिल डूबने लगता है हमारा

इन दिनों मैं भी हूँ कुछ कार-ए-जहाँ में मसरूफ़

बात तुझ में भी नहीं रह गई पहले वाली

हर तरफ़ अपने को बिखरा पाओगे

आइनों को तोड़ के पछताओगे

ज़बाँ मिली भी तो किस वक़्त बे-ज़बानों को

सुनाने के लिए जब कोई दास्ताँ रही

चल चल के थक गया है कि मंज़िल नहीं कोई

क्यूँ वक़्त एक मोड़ पे ठहरा हुआ सा है

क्यूँ आज उस का ज़िक्र मुझे ख़ुश कर सका

क्यूँ आज उस का नाम मिरा दिल दुखा गया

अब जी के बहलने की है एक यही सूरत

बीती हुई कुछ बातें हम याद करें फिर से

एक ही मिट्टी से हम दोनों बने हैं लेकिन

तुझ में और मुझ में मगर फ़ासला यूँ कितना है

आँखों को सब की नींद भी दी ख़्वाब भी दिए

हम को शुमार करती रही दुश्मनों में रात