Bahadur Shah Zafar's Photo'

बहादुर शाह ज़फ़र

1775 - 1862 | दिल्ली, भारत

आख़िरी मुग़ल बादशाह। ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन

आख़िरी मुग़ल बादशाह। ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन

22K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

तुम ने किया याद कभी भूल कर हमें

हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया

you did not ever think of me even by mistake

and in your thoughts everything else I did forsake

कोई क्यूँ किसी का लुभाए दिल कोई क्या किसी से लगाए दिल

वो जो बेचते थे दवा-ए-दिल वो दुकान अपनी बढ़ा गए

कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें

इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़-दार में

tell all my desires to go find another place

in this scarred heart alas there isn't enough space

कितना है बद-नसीब 'ज़फ़र' दफ़्न के लिए

दो गज़ ज़मीन भी मिली कू-ए-यार में

हम अपना इश्क़ चमकाएँ तुम अपना हुस्न चमकाओ

कि हैराँ देख कर आलम हमें भी हो तुम्हें भी हो

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो थी

जैसी अब है तिरी महफ़िल कभी ऐसी तो थी

conversing has never been so diffficult for me

your company now is no more as it used to be

थी हाल की जब हमें अपने ख़बर रहे देखते औरों के ऐब हुनर

पड़ी अपनी बुराइयों पर जो नज़र तो निगाह में कोई बुरा रहा

दूँगा दिल उसे मैं ये हमेशा कहता था

वो आज ले ही गया और 'ज़फ़र' से कुछ हुआ

दौलत-ए-दुनिया नहीं जाने की हरगिज़ तेरे साथ

बाद तेरे सब यहीं बे-ख़बर बट जाएगी

'ज़फ़र' आदमी उस को जानिएगा वो हो कैसा ही साहब-ए-फ़हम-ओ-ज़का

जिसे ऐश में याद-ए-ख़ुदा रही जिसे तैश में ख़ौफ़-ए-ख़ुदा रहा

बे-ख़ुदी में ले लिया बोसा ख़ता कीजे मुआफ़

ये दिल-ए-बेताब की सारी ख़ता थी मैं था

हाल-ए-दिल क्यूँ कर करें अपना बयाँ अच्छी तरह

रू-ब-रू उन के नहीं चलती ज़बाँ अच्छी तरह

लगता नहीं है दिल मिरा उजड़े दयार में

किस की बनी है आलम-ए-ना-पाएदार में

बुलबुल को बाग़बाँ से सय्याद से गिला

क़िस्मत में क़ैद लिक्खी थी फ़स्ल-ए-बहार में

---

---

ख़ुदा के वास्ते ज़ाहिद उठा पर्दा काबे का

कहीं ऐसा हो याँ भी वही काफ़िर-सनम निकले

हम ही उन को बाम पे लाए और हमीं महरूम रहे

पर्दा हमारे नाम से उट्ठा आँख लड़ाई लोगों ने

वाए इंक़लाब ज़माने के जौर से

दिल्ली 'ज़फ़र' के हाथ से पल में निकल गई

तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा

शम्अ होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा

बुराई या भलाई गो है अपने वास्ते लेकिन

किसी को क्यूँ कहें हम बद कि बद-गोई से क्या हासिल

इतना अपने जामे से बाहर निकल के चल

दुनिया है चल-चलाव का रस्ता सँभल के चल

दरवेशों का ख़िर्क़ा चाहिए ताज-ए-शाहाना

मुझे तो होश दे इतना रहूँ मैं तुझ पे दीवाना

ये क़िस्सा वो नहीं तुम जिस को क़िस्सा-ख़्वाँ से सुनो

मिरे फ़साना-ए-ग़म को मिरी ज़बाँ से सुनो

चाहिए उस का तसव्वुर ही से नक़्शा खींचना

देख कर तस्वीर को तस्वीर फिर खींची तो क्या

औरों के बल पे बल कर इतना चल निकल

बल है तो बल के बल पे तू कुछ अपने बल के चल

मर्ग ही सेहत है उस की मर्ग ही उस का इलाज

इश्क़ का बीमार क्या जाने दवा क्या चीज़ है

ये चमन यूँही रहेगा और हज़ारों बुलबुलें

अपनी अपनी बोलियाँ सब बोल कर उड़ जाएँगी

मेरे सुर्ख़ लहू से चमकी कितने हाथों में मेहंदी

शहर में जिस दिन क़त्ल हुआ मैं ईद मनाई लोगों ने

लोगों का एहसान है मुझ पर और तिरा मैं शुक्र-गुज़ार

तीर-ए-नज़र से तुम ने मारा लाश उठाई लोगों ने

I owe people a favour and I am grateful to you

they carried my coffin when with a glance you slew

मेहनत से है अज़्मत कि ज़माने में नगीं को

बे-काविश-ए-सीना कभी नामवरी दी

क्या पूछता है हम से तू शोख़ सितमगर

जो तू ने किए हम पे सितम कह नहीं सकते

मुझ को कहने की ताक़त कहूँ तो क्या अहवाल

उस को सुनने की फ़ुर्सत कहूँ तो किस से कहूँ

तमन्ना है ये दिल में जब तलक है दम में दम अपने

'ज़फ़र' मुँह से हमारे नाम उस का दम-ब-दम निकले

क्या ताब क्या मजाल हमारी कि बोसा लें

लब को तुम्हारे लब से मिला कर कहे बग़ैर

हो गया जिस दिन से अपने दिल पर उस को इख़्तियार

इख़्तियार अपना गया बे-इख़्तियारी रह गई

ग़ज़ब है कि दिल में तो रक्खो कुदूरत

करो मुँह पे हम से सफ़ाई की बातें

ले गया छीन के कौन आज तिरा सब्र क़रार

बे-क़रारी तुझे दिल कभी ऐसी तो थी

मैं सिसकता रह गया और मर गए फ़रहाद क़ैस

क्या उन्ही दोनों के हिस्से में क़ज़ा थी मैं था

देख दिल को मिरे काफ़िर-ए-बे-पीर तोड़

घर है अल्लाह का ये इस की तो तामीर तोड़

सब मिटा दें दिल से हैं जितनी कि उस में ख़्वाहिशें

गर हमें मालूम हो कुछ उस की ख़्वाहिश और है

जो तू हो साफ़ तो कुछ मैं भी साफ़ तुझ से कहूँ

तिरे है दिल में कुदूरत कहूँ तो किस से कहूँ

भरी है दिल में जो हसरत कहूँ तो किस से कहूँ

सुने है कौन मुसीबत कहूँ तो किस से कहूँ

दिल को दिल से राह है तो जिस तरह से हम तुझे

याद करते हैं करे यूँ ही हमें भी याद तू

यार था गुलज़ार था बाद-ए-सबा थी मैं था

लाएक़-ए-पाबोस-ए-जानाँ क्या हिना थी मैं था

बनाया 'ज़फ़र' ख़ालिक़ ने कब इंसान से बेहतर

मलक को देव को जिन को परी को हूर ग़िल्माँ को

लड़ा कर आँख उस से हम ने दुश्मन कर लिया अपना

निगह को नाज़ को अंदाज़ को अबरू को मिज़्गाँ को

फ़रहाद क़ैस वामिक़ अज़रा थे चार दोस्त

अब हम भी मिले तो हुए मिल के चार पाँच

मोहब्बत चाहिए बाहम हमें भी हो तुम्हें भी हो

ख़ुशी हो इस में या हो ग़म हमें भी हो तुम्हें भी हो

हम ये तो नहीं कहते कि ग़म कह नहीं सकते

पर जो सबब-ए-ग़म है वो हम कह नहीं सकते

ख़्वाब मेरा है ऐन बेदारी

मैं तो उस में भी देखता कुछ हूँ

हमदमो दिल के लगाने में कहो लगता है क्या

पर छुड़ाना इस का मुश्किल है लगाना सहल है