ADVERTISEMENT

सब्र पर शेर

शायरी में सब्र आशिक़

का सब्र है जो तवील बहर को विसाल की एक मौहूम सी उम्मीद पर गुज़ार रहा होता है और माशूक़ उस के सब्र का बराबर इम्तिहान लेता रहता है। ये अशआर आशिक़ और माशूक़ के किर्दार की दिल-चस्प जेहतों का इज़हारिया हैं।

रोने वाले तुझे रोने का सलीक़ा ही नहीं

अश्क पीने के लिए हैं कि बहाने के लिए

आनंद नारायण मुल्ला

आगही कर्ब वफ़ा सब्र तमन्ना एहसास

मेरे ही सीने में उतरे हैं ये ख़ंजर सारे

बशीर फ़ारूक़ी

वहाँ से है मिरी हिम्मत की इब्तिदा वल्लाह

जो इंतिहा है तिरे सब्र आज़माने की

जोश मलीहाबादी

हर-चंद तुझे सब्र नहीं दर्द व-लेकिन

इतना भी मिलियो कि वो बदनाम बहुत हो

ख़्वाजा मीर दर्द
ADVERTISEMENT

बहुत कम बोलना अब कर दिया है

कई मौक़ों पे ग़ुस्सा भी पिया है

शम्स तबरेज़ी

ऐसी प्यास और ऐसा सब्र

दरिया पानी पानी है

विकास शर्मा राज़

चारा-ए-दिल सिवाए सब्र नहीं

सो तुम्हारे सिवा नहीं होता

मोमिन ख़ाँ मोमिन

सब्र जाए इस की क्या उम्मीद

मैं वही, दिल वही है तू है वही

जलील मानिकपूरी
ADVERTISEMENT

सब्र दिल कि ये हालत नहीं देखी जाती

ठहर दर्द कि अब ज़ब्त का यारा रहा

हबीब अशअर देहलवी